Action India

कोविड कहर : मेडिकल कालेज, रेलवे अस्पताल सहित कोविड अस्पतालों में नहीं है जगह

कोविड कहर : मेडिकल कालेज, रेलवे अस्पताल सहित कोविड अस्पतालों में नहीं है जगह
X

जनता कर्फ्यू से मरीजों के आंकड़े नहीं हो रहे हैं कम, अर्थ व्यवस्था पर पड़ रहा है गहरा असर

रतलाम। एक्शन इंडिया न्यूज़

कोरोना संक्रमण का प्रकोप निरंतर बढ़ रहा है। उम्मीद थी कि तालाबंदी और जनता कर्फ्यू के बाद संक्रमित मरीजों का आंकड़ां थमेगा, लेकिन इसका कोई असर दिखाई नहीं हो रहा है। मरीजों का आंकड़ा निरंतर बढ़ने से लोगों को लगता है कि दुकानें बंद रखने का भी अब कोई मतलब नजर नहीं है।

दुकानें बंद होने से बाजारों में आवाजाही न के बराबर है। इस कारण शासन की निगाह में थोड़ा नियंत्रण दिखाई दे रहा है, लेकिन आम आदमी के यह बात गले नहीं उतर रही है। रोजमर्रा का व्यापार करने वाले लोग जनता कर्फ्यू के कारण परेशान हैं। बुधवार को भी मेडिकल कालेज के दरवाजे बंद कर दिए गए। गेट के बाहर अनेक मरीज प्रतिक्षा में पाए गए, लेकिन चौकीदार ने यह कहकर उन्हें मना कर दिया कि हमें अनुमति नहीं है।

लम्बी तालेबंदी के बाद कुछ माह पटरी पर गाड़ी आई थी, लेकिन फिर वहीं स्थिति नजर आ रही है। व्यापार व्यवसाय ठप्प हो गया है, पलायन कर जो मजदूर बड़े शहरों में रोजगार के लिए गए थे वह भी काफी संख्या में लौट गए हैं। जहां देखो वहां कोविड मरीजों का मंजर दिखाई देता है और मृतकों के आंकड़े भी निरंतर बढ़

रहे है। गैर सरकारी आंकड़ें तो कई गुना ज्यादा बताए जा रहे हैं, उनमें कोविड मरीज कितने हैं यह नहीं कहा जा सकता,लेकिन मृतकों की संख्या निरंतर बढऩे से भय का माहौल है। जिले में अभी तक 148 के लगभग मरीज सरकारी आंकड़े के मुताबिक मृत्यु का शिकार हुए है। मंगलवार को 163 पाजिटिव मरीज पाए गए थे।

ऑक्सीजन ऑडिट टीम का गठन-

शासकीय मेडिकल कॉलेज में मरीजों को बेहतर उपचार एवं सुविधा देने के लिए नई व्यवस्थाएं की गई है । ऑक्सीजन ऑडिट टीम का गठन किया गया है जो कि हॉस्पिटल में उपयोग होने वाली ऑक्सीजन का नियंत्रण करेगी । मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ. जितेंद्र गुप्ता ने बताया कि मरीजों को प्राप्त होने वाली ब्लड रिपोर्ट की असुविधा को दूर करने के लिए एक टीम का गठन किया गया है।

उन्होंने बताया कि आईसीयू में बेल सिस्टम भी लगाया गया है तथा एचडीयू में मरीजों से मिलने का समय सायं 4 से 6 बजे तक का निर्धारित किया गया है । उन्होंने बताया कि मेडिकल कॉलेज अस्पताल के ट्राइज एरिया में पहुंचने वाले मरीजों के इलाज को तुरंत प्रारंभ करने की व्यवस्था की गई है । साथ ही ट्राईज में 5 नए ऑक्सीजन कंसंट्रेटर लगाकर चालू किए गए हैं , ताकि अधिक से अधिक मरीजों को ऑक्सीजन दी जा सके।

डिस्चार्ज मरीजों ने भर्ती मरीजों को मोटीवेट किया-

डॉ.गुप्ता ने बताया कि मेडिकल कॉलेज से 25 कोरोना संक्रमित मरीज स्वस्थ होकर घर गए एवं आईसीयू से 8 मरीज गंभीर अवस्था से रिकवर होकर सामान्य वार्ड में शिफ्ट किए गए । इसी प्रकार एचडीयू से 10 मरीज रिकवर हुए। डिस्चार्ज हुए मरीजों द्वारा भर्ती मरीजों के लिए मोटिवेशनल स्पीच दी गई। गायत्री मंत्र के उच्चारण के जरिए उनके आत्मविश्वास को मजबूत किया गया।

समाजसेवियों ने किया सहयोग-

डा.गुप्ता ने बताया कि पांच ऑक्सीजन कंसंट्रेटर राजेंद्र जैन, महेश डकोलिया, पंकज जैन, अनिल पीपाड़ा, विजय जैन, संतोष पोरवाल, मयूर पुरोहित और नीलेश गांधी द्वारा प्रदान किए गए। इसी प्रकार महेश्वरी सेवा संगठन द्वारा नौ पल्स ऑक्सीमीटर और पांच नेबुलाइजर भी प्रदान किए गए। डॉ गुप्ता ने बताया कि मेडिकल कॉलेज हास्पिटल की व्यवस्थाओं को और बेहतर करते हुए मरीजों को अधिक से अधिक सुविधा प्रदान करने के लिए निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं।

Next Story
Share it