Action India

गुना : चातुर्मास में शहर को मिलेगा मुनिश्री पद्म सागरजी एवं विश्वाक्ष सागरजी महाराज का सानिध्य

गुना : चातुर्मास में शहर को मिलेगा मुनिश्री पद्म सागरजी एवं विश्वाक्ष सागरजी महाराज का सानिध्य
X

गुना। एक्शन इंडिया न्यूज़

जैनाचार्य विद्यासागरजी महाराज के शिष्य मुनिश्री पद्म सागरजी महाराज एवं विस्वाक्ष सागरजी महाराज का चातुर्मास कलश स्थापना समारोह रविवार को आयोजित होगा।

जैन समाज अध्यक्ष संजीव जैन एवं मंत्री कमलेश जैन ने बताया अमृत वर्षायोग कलश स्थापना का कार्यक्रम श्री पाश्र्वनाथ दिगंबर जैन बड़ा मंदिर जी स्थित महावीर भवन में ब्रह्मचारी मनोज लल्लन भैयाजी के निर्देशन में प्रात 8:30 बजे से आरंभ होगा। कमेटी द्वारा श्रद्धालुओं से कोविड-19 नियमों का पालन करते हुए कार्यक्रम में शामिल होने की अपील की है।

उधर कुंभराज कस्बे में मुनिश्री प्रसाद सागरजी, उत्तम सागरजी, शैल सागरजी एवं पुराण सागरजी महाराज का चातुर्मास कलश स्थापना का कार्यक्रम 26 जुलाई को होगा। वहीं रविवार को ही पड़ोसी जिले विदिशा के सिरोंज में मुनिश्री अभय सागरजी महाराज का ससंघ चातुर्मास कलश स्थापना का कार्यक्रम दोपहर 1:30 बजे से स्थानीय नसियांजी में होगा।

जिसके जीवन में गुरु नहीं उसका जीवन शुरू नहीं-मुनिश्री

शनिवार को दिगंबर जैन समाज गुना द्वारा गुरु पूर्णिमा का पर्व मुनिसंघ के सानिध्य में पाश्र्वनाथ दिगंबर जैन बड़ा मंदिर में मनाया गया। कार्यक्रम में उपस्थित श्रद्धालुओं ने आचार्यश्री विद्यासागरजी महाराज की संगीतमय पूजन की। इसके उपरांत मुनिश्री पदम सागरजी महाराज ने गुरु का महत्व बताते हुए जैन तीर्थंकर भगवान महावीर स्वामी के समय का दृष्टान्त सुनाया।

मुनिश्री ने बताया किस तरह समोशरण में गौतम गणधर द्वारा अपने गुरु के सामने मान भंग हुआ और आत्म कल्याण के पथ पर अपने को आगे चलके मुक्ति प्राप्त की। मुनिश्री ने कहा कि गुरु के उपकार को कभी भी भूलना नहीं चाहिए। गुरु बिना जीवन शून्य होता है। जैन समाज उपाध्यक्ष अनिल बडकुल ने बताया कि दिगंबर जैन समाज इन दिनों में अपने दिगंबर गुरुओं के सानिध्य में श्री सिद्धचक्र मंडल विधान का आयोजन कोविड-19 नियमों का पालन करते हुए किया जा रहा है।

Next Story
Share it