Action India

गैरकानूनी शराब बनाने का कारखाना पकड़ा

गैरकानूनी शराब बनाने का कारखाना पकड़ा
X

उज्जैन। एक्शन इंडिया न्यूज़

भैरवगढ़ थाना क्षेत्र के ग्राम बांसखेड़ी में अवैध तरीके से शराब बनाए जाने का बड़ा मामला उजागर हुआ है। देर रात तक कलेक्टर एसपी मामले की पड़ताल में लगे हुए थे। आज सुबह एक बार फिर पुलिस की टीम और क्रेन बांस खेड़ी पहुंची है।

शराब बनाने से जुड़ी सामग्री कुएं में होना पाए जाने पर उसे बाहर निकालने का काम किया जा रहा है। स्प्रीट से भरे ड्रम जिन्हें पुलिस ने जब्त किया।

ग्राम सिपावरा की सीमा से लगे ग्राम बांसखेड़ी सामुदायिक भवन से लगे खेत में अवैध शराब बनाए जाने की जानकारी सामने आने पर कलेक्टर आशीष सिंह, एसपी सत्येंद्र कुमार शुक्ल, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अमरेंद्र सिंह, भैरवगढ़ टीआई बृजेश श्रीवास्तव और पुलिस बल मौके पर पहुंच गया।

कुमावत परिवार के खेत में शराब बनाने के लिए मंगाए गए स्प्रिट से भरे 8 ड्रम बरामद हुए।

वहीं, सामुदायिक भवन के पास कमरे से अवैध शराब की बोतलें बरामद हो गई। मामला काफी बड़ा होने पर जांच शुरू की गई तो सामने आया कि यहां पूरा कारखाना संचालित हो रहा था। जिसमें शराब की बोतल भरने के लिए नोजल मशीनें भी लगाई गई थी। शराब का कारखाना भाजपा समर्पित सरपंच नरेंद्र कुमावत का होना सामने आया है जो मौके से भाग निकला था। खेत उसके भाई लखन कुमावत का होना पाया गया है।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के अनुसार लखन बीमारी की हालत में घर पर मिला है जिसकी पुलिस बल लगाकर निगरानी की जा रही है और पूछताछ जारी है। सरपंच नरेंद्र की तलाश जारी है। कलेक्टर एसपी देर रात तक मामले की जांच पड़ताल में जुटे रहे।

बताया गया है कि पड़ताल में 8 ड्रमों में भरी 8 लाख की स्प्रीट बरामद हुई है। वहीं 22 हजार रुपए कीमत की बनी हुई शराब भी जब्त की गई है। मौके से एक टाटा सफारी गाड़ी भी पुलिस ने बरामद की है।

शराब बनाने के लिए खेत में बने कुए से पाइप लाइन जोड़ रखी थी जिसमें कुछ ड्रम भरे होना सामने आए हैं। जिन्हें निकालने के लिए आज सुबह पुलिस की टीम और एक क्रेन बांसखेड़ी भेजी गई है। मामला करोड़ों का होना सामने आ सकता है। अब तक पुलिस 18 लाख 50 हजार से अधिक की स्प्रीट शराब और उपकरण बरामद कर चुकी है।

मामले में आबकारी एक्ट अधिनियम का प्रकरण दर्ज किया गया है। फरार नरेन्द्र की तलाश में परिजनों से पूछताछ कर एक टीम रवाना की गई है। यूरिया मिलाए जाने की जानकारी अवैध तरीके से बनाई जा रही शराब में स्प्रीट के साथ यूरिया मिलाए जाने की जानकारी सामने आई है।

मौके पर वरिष्ठ अधिकारियों ने जांच के लिए आबकारी अधिकारियों को भी बुलाया था। एएसपी अमरेन्द्र सिंह ने बताया कि शराब बनाने का कारखाना संभवत: कोरोना संक्रमण को लेकर लगाए गए लॉकडाउन और कोरोना कर्फ्यू के बीच ही शुरू किया गया है। पुलिस द्वारा इस बात की जानकारी जुटाई जा रही है कि इससे पहले भी बांसखेड़ी में अवैध शराब बनाने का कारखाना संचालित तो नहीं हो रहा था। फिलहाल मामले से जुड़े जिन लोगों के नाम भी सामने आएंगे उन्हें गिरफ्तार किया जाएगा।

Next Story
Share it