Action India

उज्जैन: अपडेट: धूमधाम से निकली बाबा महाकाल की शाही सवारी, सात स्वरूपों में दिये दर्शन

उज्जैन: अपडेट: धूमधाम से निकली बाबा महाकाल की शाही सवारी, सात स्वरूपों में दिये दर्शन
X

उज्जैन। एक्शन इंडिया न्यूज़

सोमवार को महाकालेश्वर भगवान की इस श्रावण भादौ मास की आखिरी एवं शाही सवारी धूमधाम से निकली। लाव लश्कर के साथ भगवान ने चांदी की पालकी में बिराजकर नगर भ्रमण किया। शिप्रा तट और हरसिद्धि मंदिर के बाहर बाबा की आरती पूजा की गई। सवारी का सजीव प्रसारण देश दुनिया के लोगों ने देखा। सवारी में भगवान ने सात स्वरूपों में दर्शन दिए।

सोमवार अपराह्न कोटितीर्थ के समीप सभा मण्डप में बाबा का पूजन एवं आरती नवागत आईजी संतोषकुमारसिंह एवं संभागायुक्त संदीप यादव ने की। पालकी को कांधा देकर मंदिर के बाहर लाया गया।

यहां बाबा को सशस्त्र सलामी दी गई। पश्चात चांदी की पालकी में चंद्रमौलेश्वर स्वरूप में विराजे बाबा महाकाल नगर भ्रमण पर निकले। गजराज पर मन महेश सवार थे। रथ में बाबा के पांच मुखारविंद होल्करों का मुघौटा,सप्तधान्य,शिव ताण्डव,उमा महेश तथा घटाटोप स्वरूप विराजीत थे। सवारी मंदिर से बड़ा गणेश,हरसिद्धि मंदिर,सिद्ध आश्रम होकर रामघाट पहुंची। यहां पूजन पश्चात पालकी रामानुजकोट,हरसिद्धि की पाल,हरसिद्धि मंदिर आई। यहां बाबा की आरती ,पूजन किया गया। यहां से सवारी पुन: मंदिर के लिए रवाना हो गई। सवारी मार्ग को भव्य तरीके से सजाया गया था। आतिशबाजी,रगबिरंगी छतरियां,रंगोली से सजे मार्ग लुभा रहे थे।

ज्योतिरिदित्य सिंधिया ने किया पूजन

तत्कालीन सिंधिया रियासत के समय से यह परंपरा है कि बाबा महाकाल की शाही सवारीवाले दिन बाबा का पूजन गोपाल मंदिर पर सिंधिया वंश की ओर से किया जाता है। कोरोनाकाल के कारण सवारी छोटे मार्ग से निकली। अत: ज्योतिरादित्य सिंधिया रामघाट पहुंचे और भगवान का पूजन किया।

Next Story
Share it