Top
Action India

फिर पुलिस को चकमा देकर अनाथ बच्चों के साथ किरोड़ी लाल मीणा पहुंचे मुख्यमंत्री निवास

फिर पुलिस को चकमा देकर अनाथ बच्चों के साथ किरोड़ी लाल मीणा पहुंचे मुख्यमंत्री निवास
X

जयपुर। एक्शन इंडिया न्यूज़

राजधानी जयपुर में एक फिर भारतीय जनता पार्टी राज्यसभा सांसद डॉ. किरोड़ी लाल मीणा ने पुलिस को चकमा देते हुए सैकडों अनाथ बच्चो के साथ मुख्यमंत्री निवास पहुंच कर धरने पर बैठ गए। अचानक से बड़ी संख्या में बच्चों को धरने पर बैठे देख मुख्यमंत्री निवास की सुरक्षा में लगे सुरक्षाकर्मियों में हड़कंप मच गया। सोडाला थाने और मुख्यमंत्री सिक्योरिटी में लगे बड़ी तादाद में सुरक्षाकर्मी और पुलिस के आलाधिकारी मौके पर पहुंचे, लेकिन किरोड़ी प्रदर्शन करते रहे।

जानकारी के अनुसार राज्यसभा सांसद डॉक्टर किरोड़ी लाल मीणा गाड़ियों के काफिले के साथ जवाहर सर्किंल के पास सिद्धार्थ नगर में अपने घर से मानसरोवर होते हुए सिविल लाइंस पहुंचे। किरोड़ी का काफिला अचानक मुख्यमंत्री निवास के बाहर आकर रुक गया और गाड़ियों से बड़ी संख्या में बच्चे और उनके रिश्तेदार उतरे। देखते ही देखते किरोड़ी मीणा बच्चें को लेकर मुख्यमंत्री निवास के बाहर धरने पर बैठ गए।

राज्यसभा सांसद डॉ. किरोड़ी लाल मीणा ने बताया कि वह प्रदेश में कोरोना के संकट में अनाथ हुए बच्चों के लिए उचित मदद पकैज की मांग की है। लेकिन अभी तक कोई सुनवाई नहीं हो रही है। इसके अलावा प्रदेश में अनाथ बच्चों के लिए चलाई जा रही पालनहार योजना, गोरा धाय और उत्कर्ष स्कीम राहत देने में नाकाम है। यह उंट के मुंह में जीरे के समान है। बहुत से अनाथ बच्चे अभी भी वंचित हैं। सरकार किसी भी कारण से अनाथ हुए हर बच्चे के लिए कोरोना की तर्ज पर ही पैकेज दे।

हालांकि बाद में कैबिनेट मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने किरोड़ी मीणा से बात की और उनकी बात सुनी। किरोड़ी लाल ने सरकार से बेहतर आर्थिक मदद और पैकेज की बात रखी। काफी देर तक चले इस धरने से डा. मीणा सिविल लाइन से रवाना हुए धरने को समाप्त किया। कुछ देर के इस ड्रामे ने सभी को हिला कर रख दिया और सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल खड़े कर दिए।

गौरतलब है की इससे पूर्व भी अप्रैल में महवा थाने के सामने धरने से शंभु पुजारी का शव लेकर जयपुर आकर धरने पर बैठ गये थे।

बाल कल्याण आयोग ने की किरोड़ी मीणा के धरने की निंदा

राजधानी जयपुर में शनिवार को अचानक किये गये धरना प्रदर्शन से जहां एक और सिविल लाइन पर हलचल मच गई थी और बिना किसी सूचना के बच्चो के साथ डॉ किरोड़ी लाल मीणा पहुचे थे। धरना देने की इस बात का पता चलने पर बाल कल्याण आयोग की अध्यक्ष संगीता बेनीवाल कठोर शब्दों ने निंदा करते हुए कहा कि बच्चों को सियासत का जरीया नहीं बनाए। बच्चो के साथ विभिन्न तक्तिया लेकर सडक पर धरना देना ठीक नहीं ।बच्चो को राजनीती से रखे दूर। आयोग के पास जानकारी है की क्या पैकेज मिल रहा है और क्या मदद सरकार से लेनी है ।

उन्होंने बताया की 12 जून को मुख्यमंत्री ने की दो बड़ी योजनाओ की घोषणा की थी। जिससे भी काफी मदद मिलेगी और अनाथ बच्चों और एकल नारी को भी। लेकिन आज जिस प्रकार किरोड़ी मीणा ने ये तरीका अपनाया बच्चों को साथ लेकर विरोध का। इस बात की बाल कल्याण आयोग घोर निंदा करता है । सरकार के द्वारा भी कार्य किया जा रहा है और आयोग के कार्यो में योजना पर कार्य चल रहा है। जल्द ही उचित व्यक्तियों को चिन्हित करके मदद की जाएगी। डॉ किरोड़ी मीणा को अगर बात सरकार के सामने रखने थी तो कोई और तरीके से भी रख सकते थे परन्तु जो आज हुआ वो बहुत ही निन्दाजनक कार्य है।


Next Story
Share it