Top
Action India

पाकिस्तान ने हीरानगर सेक्टर में की फायरिंग, रिहायशी इलाकों को बनाया निशाना, कई घर हुए क्षतिग्रस्त

पाकिस्तान ने हीरानगर सेक्टर में की फायरिंग, रिहायशी इलाकों को बनाया निशाना, कई घर हुए क्षतिग्रस्त
X

कठुआ । Action India News

पाकिस्तान रेंजर्स ने सुबह अंतरराष्ट्रीय सीमा पर कठुआ जिले के हीरानगर सेक्टर की पंचायत पानसर के अधीन पड़ते गांव छन्न टांडा में मोर्टार तथा छोटे हथियारों से गोलीबारी की। इसमें गांव के कई मकानों को क्षति पहुंची है।

जानकारी के अनुसार हीरानगर सेक्टर की पंचायत पानसर के अधीन पड़ते गांव छन्न टांडा में सुबह तीन बजे गोलाबारी कर रिहायशी इलाकों को निशाना बनाया गया। करीब एक घंटे तक चली इस गोलाबारी से गांव के कई घरों को क्षति पहुंची है। हालांकि इस गोलाबारी से किसी तरह के जानमाल का नुकसान नहीं हुआ है लेकिन सीमावर्ती ग्रामीणों में दहशत है।

गांववासियों का कहना है कि भारत-पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय सीमा से सटे हीरानगर सेक्टर में चल रहे बांध निर्माण के कार्य को रुकवाने के लिए पाकिस्तान की ओर से गोलाबारी का सिलसिला सप्ताह भर से जारी है। पिछले एक सप्ताह में कोई भी दिन ऐसा नहीं गया है, जब पाकिस्तान ने फायरिंग न की हो। गांववासी मीना कुमारी ने बताया कि पाकिस्तान की तरफ से की गई गोलाबारी की वजह से उनका घर पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो चुका है।

उन्होंने बताया कि अभी उनके घर का निर्माण कार्य चालू है, लेकिन फायरिंग की वजह से उनके नवनिर्माण घर को ही क्षति पहुंची है। उन्होंने केंद्र सरकार से मांग की है कि रोज-रोज की इस फायरिंग से अब गांववासी तंग आ चुके हैं उन्होंने कहा कि एक ही बार आरपार की लड़ाई होनी चाहिए, तब जाकर पाकिस्तान की अकल ठिकाने आएगी।

वही एक अन्य गांववासी संजीव कुमार का कहना है कि फायरिंग की वजह से उनका घर भी क्षतिग्रस्त हुआ है। उन्होंने कहा कि पिछले कई सालों से पाकिस्तान की गोलाबारी के शिकार हो रहे हैं कई बार तो उनके मवेशी भी मारे जा चुके हैं और घरों को भी क्षति पहुंचती है।

उन्होंने कहा कि इस संबंध में कई बार जिला उपायुक्त से मिले हैं और उनसे मांग की गई है कि उन्हें बॉर्डर से स्थानांतरित कर कहीं अन्य जगह पर प्लाट दिए जाएं, ताकि रोज-रोज की इस फायरिंग से उन्हें निजात मिल सके। उन्होंने मांग की है कि रोज-रोज की छिटपुट फायरिंग से अच्छा है कि एक ही बार आरपार की लड़ाई लड़ी जाए और पाकिस्तान को सबक सिखाया जाए।

Next Story
Share it