Top
Action India

भूखों को भोजन और कर्तव्य निभा रहे कर्मियों को कर रहे सम्मानित

भूखों को भोजन और कर्तव्य निभा रहे कर्मियों को कर रहे सम्मानित
X

  • उम्मीद नामक संस्था लोगों को उपलब्ध करा रही आवश्यक सामग्री

  • एसएसआई ने रास्ता भटके और भूखे वृद्धों को कराया भोजन

हापुड़ । एएनएन (Action News Network)

वैश्विक महामारी कोरोना के संक्रमण से पूरा देश त्रस्त है। इस महामारी को रोकने के लिए देश में संपूर्ण लाॅकडाउन है। देश में व्यापार, विकास योजनाएं और कृषि कार्यों पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है। इस कारण देशवासियों खासकर गरीबों, असहायों ,जरुरतमंदों और दिहाड़ी मजदूरों को परेशानी का सामना भी करना पड़ रहा है। हालांकि केंद्र और राज्य सरकारें इन दोनों वर्ग की समस्याओं को कम करने में जुटी हैं।इस संकटकाल में जहां एक ओर सरकारें गरीब वर्ग को उनकी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए धन की व्यवस्था कर रही हैं तो दूसरी ओर सामाजिक संस्थाएं, एनजीओ और आर्थिक रूप से सामार्थ्यवान लोग गरीब लोगों की मदद कर रही हैं।

जनपद में हापुड़ नगर के बुलंदशहर मार्ग के आबादी क्षेत्र तथा कई गांवों को कोरोना के संक्रमण को देखते हुए बफर जोन घोषित किया गया है। इन क्षेत्रों को पूरी तरह सील कर दिया गया है। इन क्षेत्रों में लोगों की आवश्यक आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए स्वयंसेवक संस्थाएं और एनजीओ आगे आई हैं। ऐसी ही एक एनजीआ ‘उम्मीद’ ने बुलंदशहर मार्ग पर दैनिक उपयोग की वस्तुएं तथा खाद्य सामग्री उपलब्ध कराने के लिए अस्थाई दुकान लगा ली है। क्षेत्र में कोरोना का संक्रमण पाए जाने के खतरे के बावजूद इस एनजीओ से जुड़े लोग प्रशासन द्वारा निर्धारित दरों पर लोगों को आवश्यक वस्तुएं उपलब्ध करा रहे हैं।

दूसरी ओर कानून व्यवस्था बनाए रखने में दिन-रात जुटे पुलिसकर्मियों और गरीब लोगों को स्वर्णकार संघ के सदस्य भोजन पहुंचा रहे हैं, ताकि उनका जीवन सुरक्षित रह सके। इसके अतिरिक्त नागरिक लाॅक डाउन के दौरान कोरोना संक्रमण के खतरे के बावजूद नगर को स्वच्छ रखने के लिए सफाई व्यवस्था में जुटे सफाई कर्मियों और कानून व्यवस्था को चाक-चौबंद बनाए रखने वाले पुलिसकर्मियों को फूलमाला पहना कर सम्मानित कर रहे हैं। शनिवार को संजय विहार में नागरिकों ने सफाई कर्मी को फूलमाला पहना कर सम्मानित किया। दूसरी ओर पुलिसकर्मी भी भूखे लोगों को भोजन करा रहे हैं।

आज अपने मकान की तलाश में रास्ता भटक गए एक वृद्ध को वरिष्ठ उपनिरीक्षक जयपाल रावत ने कोतवाली ले जाकर सम्मान सहित भोजन कराया। ‘उम्मीद’ नामक एनजीओ के महामंत्री राजीव सिंह का कहना है कि वह और उनके साथी मानवता की रक्षा के लिए लाभ-हानि का विचार किए बिना नागरिकों को खाद्य सामग्री एवं अन्य दैनिक उपयोग में आने वाली आवश्यक सामग्री उपलब्ध करा रहे हैं। उनका उद्देश्य व्यापार में लाभ कमाना नहीं अपितु इस संकटकाल में लोगों की मदद करना है, ताकि लोग वैश्विक महामारी के दौरान अपने जीवन की कठिनाइयों को कम कर सकें।

पुलिस कर्मियों और मजदूरों के भोजन की व्यवस्था कर रहे समाज सेवक

स्वर्णकार संघ के महासचिक राजेश वर्मा का कहना है कि पुलिसकर्मी कोरोना संक्रमण के इस संकट काल में अपने परिवारों को छोड़ कर दिन-रात लोगों की मदद करने और कानून व्यवस्था को दुरुस्त बनाने में जुटे हैं। इस कार्य को करते हुए उन्हें भोजन करने के लिए अपने घर जाने का भी समय नहीं मिल पा रहा है। इस कारण उनकी संस्था ने उन्हें भोजन कराने की व्यवस्था करने का निर्णय लिया। नगर के आर्थिक रूप से संपन्न कुछ लोगों ने ‘सहायता’ नाम से एक स्वयंसेवक संस्था का गठन कर लिया है। इस संस्था के सदस्य प्रतिदिन गरीब लोगों को उनके घर जाकर भोजन के पैकेट वितरित कर रहे हैं। इस कारण प्रतिदिन मजदूरी कर परिवार का भरण पोषण करने वाले लोगों को लाॅक डाउन के दौरान भी भरपेट भोजन मिल पा रहा है।

Next Story
Share it