Action India
अन्य राज्य

चांपदानी में अस्थाई सफाई कर्मियों ने किया धरना-प्रदर्शन

चांपदानी में  अस्थाई सफाई कर्मियों ने किया धरना-प्रदर्शन
X

चांपदानी । एएनएन (Action News Network)

कोरोना महामारी से बचने के लिए पूरे देश में लॉक डाउन है। लोग अपने अपने घरों में कैद हैं। लेकिन इसी बीच शनिवार को हुगली जिले के चांपदानी में सफाई कर्मियों को लेकर राजनीति शुरू हो गई है। प्राप्त जानकारी के अनुसार शनिवार को चांपदानी नगरपालिका के कुछ अस्थाई सफाई कर्मचारी नगरपालिका के सामने धरने पर बैठ गए। वे अपने स्थायीकरण और वेतन की मांग कर रहे थे।

जब इस मामले में चांपदानी नगरपालिका के चेयरमैन सुरेश मिश्रा से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि सफाई कर्मचारियों को गत दो अप्रैल को उनके तनख्वाह की राशि दी गई है। सफाईकर्मियों के इस महीने की तनख्वाह भी उनके अकाउंट में अगले हफ्ते में भेज दी जाएगी। चेयरमैन ने बताया कि अस्थाई सफाई कर्मचारियों के वेतन का भुगतान नगरपालिका को मिलने वाले कैश से होता है। लॉक डाउन के कारण पिछले तकरीबन डेढ़ महीनों से नगरपालिका का कैश काउंटर बंद है इसके बाद भी अस्थाई सफाई कर्मचारियों को उनका वेतन दिया जा रहा है। भाजपा के पास चांपदानी में कोई मुद्दा नहीं है इसलिए वे वर्तमान समय में नगरपालिका के अस्थाई सफाई कर्मियों को आगे रखकर राजनीति कर रहे हैं। इस महामारी के दौर में वे राजनीति करें, लेकिन हम लोगों की सेवा से अपना ध्यान नहीं भटकाएंगे।

वहीं भाजपा के सांगठनिक जिले श्रीरामपुर के महासचिव किशन साव ने आरोप लगाया कि चांपदानी नगरपालिका के पार्षदों की संपत्ति बहुत ज्यादा बढ़ी है। वे करोड़पति बन गए हैं। लेकिन नगर पालिका के अस्थाई सफाई कर्मचारियों वेतन नहीं दे पा रहे हैं। उन्होंने कहा कि जल्द नगरपालिका के अस्थाई सफाई कर्मचारियों को यदि उनका वेतन नहीं मिला तो भाजपा आंदोलन करेगी।

वहीं प्रदर्शन में शामिल एक सफाई कर्मचारी कार्तिक ने आरोप लगाया कि जबरन सफाई कर्मचारियों में से कुछ लोग अन्य सफाई कर्मचारियों से आंदोलन करवा रहे हैं और भाजपा के कुछ नेता और कार्यकर्ता इसका फोटो और वीडियो बना रहे हैं। उसने यह भी कहा कि कुछ सफाई कर्मचारियों के बैंक खातों में केवाईसी की गड़बड़ी के कारण उनका तनख्वाह नहीं पहुंच रहा है। उन्हें अपना केवाईसी ठीक करवाना चाहिए ना कि नगरपालिका के सामने आंदोलन करना चाहिए।

Next Story
Share it