Action India
अन्य राज्य

मौसम विभाग की चेतवानी, आज से तीन दिनों तक उप्र में भारी बारिश की संभावना

मौसम विभाग की चेतवानी, आज से तीन दिनों तक उप्र में भारी बारिश की संभावना
X

लखनऊ । एएनएन (Action News Network)

मौसम विभाग की ओर से गुरुवार देर रात को चेतावनी जारी किया है। यह संभावना जताई गयी है कि शुक्रवार (आज) से अगले तीन दिनों तक प्रदेश में सामन्य से भारी बारिश हो सकती हैं। इन तीन दिनों के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है।

मौसम विभाग के ताजा अनुमान के मुताबिक, 26, 27 और 28 जून को पूर्वी मध्य और पूर्वी यूपी के कई जिलों में भारी बारिश की संभावनाएं है। बारिश के साथ ही आंधी और आकाशीय बिजली का भी खतरा लगातार बना रहेगा। पश्चिमी यूपी में भी बारिश होगी, लेकिन उसकी व्यापकता पूर्वी यूपी के मुकाबले कम होने के आसार है। कुछ जगहों पर छिटपुट बारिश भी होगी।

रायबरेली में हुई सबसे ज्यादा बारिश

प्रदेश में गुरुवार को हुई बारिश को लेकर मौसम विभाग ने देर रात अपना आकड़ा जारी किया। इसमें सबसे ज्यादा बारिश जनपद रायबरेली में तो हरदोई जिले में बहुत कम बारिश हुई है। मौसम विभाग के मुताबिक, रायबरेली में 83.4 मिलीमीटर बारिश, बरेली में 43.2 मिलीमीटर बारिश, सुल्तानपुर में 35.8 मिलीमीटर, बहराइच में 42 मिलीमीटर, प्रयागराज में 14, गोरखपुर में 12 और कानपुर में 22 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई। साथ ही झांसी में 04, बलिया में 03 और हरदोई में 02 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई।

गुरुवार को हुई 24 लोगों की मौत

गुरुवार को हुई बारिश और आकाश से गिरी बिजली से प्रदेश के अलग-अलग जनपदों में 24 लोगों की मौत हुई है। राहत आयुक्त, उत्तर प्रदेश द्वारा उपलब्ध कराए गए विवरण के अनुसार गुरुवार को आकाशीय बिजली से जनपद देवरिया में 09, कुशीनगर, फतेहपुर, बलरामपुर व उन्नाव में 01-01, बाराबंकी में 02, अम्बेडकरनगर में 03, प्रयागराज में 06 जनहानि की सूचना प्राप्त हुई है। यह आकड़ा गुरुवार रात का है।

राज्यपाल व मुख्यमंत्री ने जनहानि पर जताया था शोक

प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को प्रदेश के विभिन्न जनपदों में वर्षा एवं आकाशीय बिजली गिरने से हुई जनहानि पर शोक व्यक्त किया था और घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना की थी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आकाशीय बिजली से हुई जनहानि को लेकर दिवंगतों के परिजनों को 04-04 लाख रुपये की राहत राशि तत्काल वितरित किए जाने के निर्देश दिए थे।

Next Story
Share it