Top
Action India

हिमाचल में बारिश से गेहूं की फसल को भारी नुकसान

शिमला । एएनएन (Action News Network)

हिमाचल प्रदेश में लगातार दो दिनों से हो रही बारिश किसानों पर कहर बनकर टूटी है। राज्य के मैदानी क्षेत्रों में बेमौसमी व असमय बारिश से गेहूं की फसल को भारी नुकसान पहुंचा है। खराब मौसम के चलते गेहूं का कटाई का काम भी बाधित हुआ है। बीते 24 घण्टों में हमीरपुर, बिलासपुर, ऊना और कांगड़ा जिलों में कई स्थानों पर तेज़ हवा के साथ बारिश हुई। जिससे गेहूं की खड़ी व कटी फसल बर्बाद हुई। ज्यादातर किसानों ने गेहूं की कटाई शुरू कर दी है। ऐसे में बारिश गेहूं के लिए काफी नुकसानदायक रहती है।

मौसम की मार से गेहूं की पैदावार में काफी कमी आने की संभावना है, जिससे किसानों की लागत और मेहनत पर पानी फिर जायेगा। मौसम विभाग के मुताबिक नाहन में सर्वाधिक 27 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड हुई है। इसके अलावा शिमला में 16, डलहौजी में 15, कांगड़ा में 12, बिलासपुर में 11 और उना में 9 मिली वर्षा हुई। मौसम में आये इस बदलाव से तापमान में भारी गिरावट आ गई है। शिमला सहित पर्वतीय क्षेत्रों में सर्दियों की तरह ठंड महसूस की जा रही है।

लाहौल-स्पीति के केलंग में न्यूनतम तापमान 5, किन्नौर के कल्पा में 6.8, कुफरी में 7.4, मनाली में 8.8, डलहौजी में 9.4, शिमला में 10.3, सोलन में 12.2 और धर्मशाला में 12.8 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला के निदेशक मनमोहन सिंह ने सोमवार को बताया कि राज्य में बारिश का दौर अगले 24 घण्टों में भी जारी रहने के आसार हैं। मैदानी व मध्यम ऊंचाई वाले क्षेत्रों में कुछ स्थानों पर भारी ओलावृष्टि हो सकती है।

Next Story
Share it