Top
Action India

पदोन्नति में आरक्षण को लेकर चौथे दिन भी कार्य बहिष्कार -12 से स्वास्थ्य सेवा से दूरी बनाएंगे कर्मचारी

पदोन्नति में आरक्षण को लेकर चौथे दिन भी कार्य बहिष्कार  -12 से स्वास्थ्य सेवा से दूरी बनाएंगे कर्मचारी
X

देहरादून। एएनएन (Action News Network)

जनरल-ओबीसी कार्मिक पदोन्नति में आरक्षण खत्म की मांग को लेकर चौथे दिन गुरुवार को भी प्रदेशभर में कार्य बहिष्कार जारी रहा। आपातकालीन स्वास्थ्य सेवा कर्मचारियों ने कोरोना वायरस और त्यौहार को देखते हुए 12 मार्च से पूर्णरूप से कार्य से दूरी बनाने की चेतावनी दी है। नर्सेस एसोसिएशन सहित कई संगठनों ने आंदोलन का समर्थन किया है लेकिन कार्य बहिष्कार 12 मार्च से करने को पत्र दिया।

आज देहरादून के परेड मैदान में बड़ी संख्या में उर्जा निगम, जल निगम, शिक्षा, सूचना विभाग, सचिवालय, ​जिला कार्यालय, आरटीओं, लोक निर्माण के संविदा कर्मचारी, आईटी विभाग, पिटकुल सहित अन्य विभाग के कर्मचारी कार्य बहिष्कार के साथ धरना प्रदर्शन में शामिल हुए। जबकि जल संस्थान, कोषागार सहित अन्य कर्मचारी आंदोलन से दूरी बनाए हुए हैं। इस दौरान विभिन्न संगठनों के पदाधिकारियों ने धरने को संबोधित कर अपने हक लड़ाई में शामिल होने और सरकार की मुखालफत को जोश भी भरा।

कुछ कार्मिकों ने ढोलक, हारमोनियम के साथ गीत गाकर भी सरकार पर निशाना साधा।उत्तराखंड नर्सेस संघ के प्रांतीय अध्यक्ष मीनाक्षी जखमोला ने धरना स्थल पर एक पत्र सौंपा। पत्र में उन्होंने लिखा है कि सरकार की उपेक्षा नीति से हम खिन्न हैं और आंदोलन का समर्थन करते हैं। लेकिन कोरोना को देखते हुए 12 मार्च से पूर्ण रुप से कार्य बहिष्कार करेंगे। उनके इस पत्र का संघ अधिकारियों ने स्वागत किया। संगठन का कहना है कि वो भी जल्द आंदोलन में शामिल होंगे जो विभाग अभी तक नही आए है। इसके लिए बल नही, प्रेम से उन्हें लाने का प्रयास जारी है। संघ पदाधिकारियों ने कहा कि जो कर्य बहिष्कार में शामिल नहीं होंगे उनको समाज से ​बहिष्कार किया जाएगा।

अपने अधिकार और मांग की लड़ाई में डरने की जरुरत नहीं है। आंदोलन के समय और बाद में किसी भी कर्मचारी को प्र​ताड़ित या अन्य कार्रवाई हुई तो हम बिना नोटिस हड़ताल पर चले जाएंगे। संघ के प्रदेश अध्यक्ष दीपक जोशी ने अपने जान को खतरा बताते हुए कहा कि सोशल मीडिया के माध्यम से उन्हें डराया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि हमारी लड़ाई का स्वरूप बदल रहा है। हमारी संख्या भी ज्यादा है। यूपी की तर्ज यहां भी सरकार इसे लागू करें। हम एक संकल्प के साथ काम करेंगे। इसमे सभी कर्मचारी स्वत:आंदोलन में शामिल होंगे उन्हें बुलावा और पत्र की ओर ध्यान नहीं देना है। इसमे सभी कर्मचारियों की सहभागिता जरूरी है। उन्होंने बेरोजगारों को रोजगार देने के लिए सरकार से नवीन रोस्टर प्रणाली लागू करने की मांग की।

Next Story
Share it