Action India
अन्य राज्य

हत्याकांड का खुलासा,एक गिरफ्तार

हत्याकांड का खुलासा,एक गिरफ्तार
X

रांची । एएनएन (Action News Network)

रांची के तमाड़ थाना पुलिस ने काशी नाथ महतो हत्याकांड का खुलासा करते हुए एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपी का नाम संतोष महतो बताया गया हैं। इसके निशानदेही पर पुलिस ने एक कुल्हाड़ी, बाया पैर का चप्पल और शर्ट बरामद किया है।

ग्रामीण एसपी नौशाद आलम ने शनिवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि 4 मई हो तमाड़ थाना क्षेत्र के हराहुरू पास झाड़ी से पुलिस ने एक शव बरामद किया था। शव की शिनाख्त काशीनाथ महतो के रूप में की गई थी।

मृतक की पत्नी सुमित्रा देवी के बयान पर अज्ञात अपराधियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई थी। मामले की गंभीरता को देखते हुए अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी (एसडीपीओ) अजय कुमार, बुंडू थाना प्रभारी रमेश कुमार और तमाड़ थाना प्रभारी चंद्रशेखर आजाद के नेतृत्व में एक विशेष टीम का गठन किया गया। टीम को जांच के क्रम में पता चला कि हत्या को संतोष महतो ने अन्य लोगों के साथ मिलकरअंजाम दिया है। इसके बाद छापेमारी कर संतोष महत्व को सरमाली गांव से गिरफ्तार किया गया।

जमीन विवाद में की गई थी काशी नाथ महतो की हत्या

एसपी ने बताया कि संतोष महतो ने पूछताछ में बताया कि पेड़ायडीह में जमीन को लेकर बसंती देवी और स्वराज मुंडा के बीच विवाद चल रहा था। दोनों पक्ष उस जमीन पर अपना-अपना दावा करते हैं।

उस जमीन के नजदीक में लखीमनी देवी ने अपनी जमीन पर एक जिओ कंपनी का टावर लगवाया है। इसके लिए वे रोड के किनारे स्वराज मुंडा की सहायता से एक ट्रांसफार्मर लगा रही थी। जिसका विरोध बसंती देवी के द्वारा किया जा रहा था।

बसंती देवी के पक्ष में काशीनाथ महतो, वीरेंद्र महतो फनी महतो और अन्य लोग थे। इस विवाद के बढ़ने पर स्वराज सिंह मुंडा ने रांची कोर्ट में जाकर कोर्ट कंप्लेंट केस कर दिया। जिसमें अन्य गवाहों के अलावा हड़िया महतो भी थे।

इस बात से नाराज होकर काशीनाथ महतो ने हड़िया महतो को जान से मारने के लिए दो बार प्रयास किया। लेकिन हड़िया महतो को पहले ही जानकारी मिल गई जिसके कारण वह बच गया। इस बात को लेकर हड़िया महतो का बेटा भीम महतो ने काशी नाथ महतो की हत्या करने की योजना बनायी।

इस बात की जानकारी भीम महतो ने संतोष महतो और सोमेन महतो को बताया। सभी लोग काशी नाथ महतो की हत्या करने के लिए तैयार हो गये। इसके बाद पेड़ायडीह स्थित मोड़ पर भीम और सुमन महतो मांस बना रहे थे।

इसी बीच उन लोगों ने काशीनाथ महतो को साइकिल से एदलडीह की ओर जाते देखा। काशी नाथ महतो का भैयादी के साथ जमीन का विवाद काफी समय से चल रहा था। जमीन के मापी करवाने के लिए अमीन से संपर्क करने के लिए काशी नाथ महतो एदलडीह जा रहा था।

इस बात की जानकारी भीम महतो को पहले से थी ।भीम महतो ने काशीनाथ महतो को एदलडीह की ओर जाते देख संतोष महतो को फोन किया। वह अपने गांव सरमाली में ताश खेल रहा था। ताश खेलने के बाद में बाइक से बादला जाने वाली सड़क पर स्थित पुलिया के पास वह पहुंचा।

भीम महतो और सोमेन महतो मांस खाकर और दारू पीकर पहले से ही दोनों पुलिया पर आ चुके थे। भीम अपने साथ दावली, डाई और कुल्हाड़ी लेकर आया था। काशी नाथ महतो को रात में कम दिखाई पड़ता था ।

सोमेन महतो मोटरसाइकिल को पुलिया पर ही रोककर खड़ा कर दिया। काशी नाथ महतो साइकिल चलाते हुए आया और कम दिखाई पड़ने के कारण रास्ते में खड़े मोटरसाइकिल से जा टकराया ।

जिस कारण वह नीचे जमीन पर गिर पड़ा। उसके जमीन पर गिरते ही भीम महतो ने अपने हाथ में लिए डाई से काशीनाथ महतो के सिर पर जोर से मारा तो काशीनाथ महतो ने भी बोला कि भगिना हमको क्यों मार रहे हो, छोड़ दो इस पर भीम बोला कि तुम मेरे पिताजी की हत्या करने के लिए दो बार प्रयास किया है।

हम तुमको नहीं छोड़ेंगे ।तीनों ने उसे खींचकर पुलिया से नीचे लाया और मार कर हत्या कर दी। एसपी ने बताया कि अन्य दो अपराधियों की तलाश के लिए छापेमारी जारी है ।उन्हें भी शीघ्र गिरफ्तार कर लिया जाएगा। एसपी ने बताया कि छापेमारी टीम में अजय प्रताप ,मुकेश कुमार यादव, यशवंत कुमार, निर्मल कुमार मंडल, दीपक कुमार सिंह और सशस्त्र बल शामिल थे।

Next Story
Share it