Top
Action India

लॉकडाउन में देवदूत की तरह सेवा कर रहे संघ के स्वयंसेवक

  • हरीश साल्वे की पत्नी ने घर में बनाकर दिए 1400 मास्क

नई दिल्ली । एएनएन (Action News Network)

दुनिया के सबसे बड़े सामाजिक संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अनुषांगिक संगठन सेवा भारती ने संकट के समय हमेशा देश में सेवा कार्यों को बढ़ावा दिया है। सेवा भारती का नाम किसी जाति और धर्म के भेदभाव के बिना सामाजिक स्तर पर लोगों की सेवा करने के लिए जाना जाता है। संकट के समय सेवा भारती से जुड़े लाखों स्वयंसेवक और दानदाता लोगों की सेवा के लिए उठ खड़े होते हैं। कोरोना संकट के बाद राजधानी में हुए लॉकडाउन के पश्चात हजारों स्वयंसेवकों ने गरीब बस्तियों में पहुंचकर उन्हें सहायता पहुंचाने का काम किया। दिल्ली के कोने-कोने से लेकर दूर दराज के गांव और यमुना के खादर में बसे लोगों से लेकर दिल्ली के बॉर्डर पर बसे गांवों में रहने वाले गरीबों के बीच सेवा भारती ने सहायता पहुंचाई।

समाज के सक्षम वर्ग द्वारा संकट के वक्त सेवा भारती को विविध तरह की सामग्री प्रदान की जाती है, जिसे समाज में जरूरतमंदों के बीच बांटा जाता है। इसी कड़ी में देश के जाने-माने वकील और पाकिस्तान के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में भारत की तरफ से पैरवी करने वाले हरीश साल्वे की धर्मपत्नी ने भी सेवा भारती तक मदद पहुंचाई है। कोरोना संकट के वक्त हरीश साल्वे की पत्नी मीनाक्षी साल्वे ने अपने घर में 1400 मास्क बनाए और उन्हें सेवा भारती को भेंट कर दिया ताकि जरूरतमंदों तक पहुंच सके।

सेवा भारती की विज्ञप्ति के मुताबिक लॉकडाउन के दौरान 15 अप्रैल तक 28 लाख लोगों को भोजन पैकेट दिए गए। 1 लाख 22 हजार परिवारों को राशन की किट प्रदान की गई। इसके अतिरिक्त कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए 1 लाख 20 हजार साबुन, 96 हजार मॉस्क, 40 हजार ग्लब्स और 11 हजार 500 सैनेटाइजर की बोतलों का लोगों के बीच वितरण किया गया।

हर संकट की घड़ी में सेवा में जुट जाते हैं स्वयंसेवक

देश में किसी भी संकट के समय सेवा भारती के कार्यकर्ता पहली पंक्ति में खड़े होकर मानवता की सेवा में जुट जाते हैं। 2019 में ओडिशा में आई सुनामी के वक्त सेवा भारती ने वहां 13 सेवा केंद्र स्थापित किए और आपदा से पीड़ित परिवारों को भोजन, कपड़ा, घरेलू सामान, बच्चों को स्कूली पुस्तकें वितरित करने का काम किया। इसी तरह 2018 में केरल में आई प्रलयंकारी बाढ़ के बीच फंसे लोगों तक सेवा भारती के लोग मदद लेकर पहुंचे। केरल में 35 स्थानों पर सेवा भारती ने अपने राहत शिविर स्थापित कर लोगों तक एंबुलेंस, खाना, घर का सामान, कपड़े, और साड़ियों का वितरण किया। जम्मू-कश्मीर में आई बाढ़ हो या नेपाल में आया भूकंप, केदारनाथ में जलप्रलय का प्रकोप हो या तमिलनाडु में सुनामी; सेवा भारती ने तत्परता के साथ लोगों को सहायता और सेवा पहुंचाने का काम किया है।

Next Story
Share it