">

हिन्दुओं की हत्या के विरोध में दिल्ली में हल्ला बोल

हिन्दुओं की हत्या के विरोध में  दिल्ली में हल्ला बोल

दिल्ली में शनिवार की सुबह विश्व हिन्दू परिषद और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ताओं द्वारा संकल्प यात्रा का आयोजन किया गया, जिसमें 50 हजार से ज्यादा लोगों के शामिल होने का दावा किया गया है. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में संकल्प यात्रा शनिवार सुबह 10 बजे मंडी हाउस से शुरू हुई, और दोपहर 3 बजे के करीब जंतर मंतर पर खत्म हुई। राजस्थान के उदयपुर और महाराष्ट्र के अमरावती में हुई हिन्दू युवकों की हत्या की घटनाओं के विरोध में इस संकल्प यात्रा को निकाला गया। इस यात्रा में कई बड़े संत महात्मा और सेना के रिटायर्ड अफ़सर भी शामिल हुए।

प्रदर्शन में शामिल लोग तिरंगे फहराते हुए नज़र आए साथ ही ‘भारत माता की जय’ और ‘जय श्री राम’ के नारे भी लगाए गए। इस प्रदर्शन में महिलाओं से लेकर बुजुर्ग और बच्चे भी शामिल हुए।
प्रदर्शन में मौजूद लोगों से हमारी टीम ने बात करी जहाँ लोग जिहाद और शरीयत के खिलाफ भड़के हुए नज़र आए।

इस मार्च में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता तजिंदर पाल सिंह बग्गा और कपिल मिश्रा ने भी हिस्सा लिया।

उत्तरी दिल्ली के पूर्व महापौर अवतार सिंह ने कहा, ”इस ‘संकल्प मार्च’ के लिए आज कई हिंदू समूह सड़कों पर हैं। हम यहां हिंदुओं पर हमलों के खिलाफ आवाज उठाने के लिए एकत्रित हुए हैं। उन्हें इस तरह से निशाना नहीं बनाया जा सकता। हमें निशाना बनाने वालों को हम छोड़ेंगे नहीं।”

संकल्प मार्च के कारण कई सड़को को किया गया अस्थायी रूप से बंद

मार्च के कारण मध्य दिल्ली में कई सड़कों को अस्थायी रूप से बंद कर दिया गया। यातायात पुलिस ने ट्विटर पर यात्रियों को सुबह आठ बजे से दोपहर दो बजे के बीच सिकंदरा रोड, बाराखंभा रोड, कॉपरनिकस मार्ग, फिरोज शाह रोड, भगवान दास रोड, कस्तूरबा गांधी मार्ग, टॉलस्टॉय मार्ग, संसद मार्ग, कनॉट प्लेस, पटेल चौक और जनपथ की तरफ जाने से बचने की सलाह दी।

एंटी हेट स्पीच कानून बनाने की तैयारी में सरकार

Advertisement

Advertisement