Top
Action India

एक बार फिर शहर में गूंजेगी साध्वी ऋतम्भरा की ओजस्वी वाणी

एक बार फिर शहर में गूंजेगी साध्वी ऋतम्भरा की ओजस्वी वाणी
X

साध्वी ऋतम्भरा का उदयपुर संभाग में फरवरी में साप्ताहिक प्रवास

उदयपुर ।एएनएन (Action News Network)

राष्ट्रीय संत दीदी मां साध्वी ऋतम्भरा की ओजस्वी वाणी एक बार फिर मेवाड़ की धरा पर गूंजेगी। उदयपुर संभाग में फरवरी में उनका सात दिन का प्रवास रहेगा। इस सप्ताह को धर्म चेतना व जनजागरण सप्ताह के रूप में मनाया जाएगा। वात्सल्य सेवा समिति के तत्वावधान में इसकी तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। वात्सल्य सेवा समिति के अध्यक्ष प्रकाश अग्रवाल व महामंत्री पारस सिंघवी ने बताया कि दीदी मां 10 फरवरी को उदयपुर, 11 फरवरी को नीमच, 12 फरवरी को भीलवाड़ा, 13 फरवरी को चित्तौडग़ढ़, 14 फरवरी को डूंगरपुर में रहेंगी।

समिति के मुख्य संरक्षक दिनेश भट्ट एवं कोषाध्यक्ष ओमप्रकाश अग्रवाल ने बताया कि दीदी मां 10 फरवरी को प्रात: रेल मार्ग से उदयपुर पहुंचेंगी। वे अपने प्रवास के दौरान उदयपुर संभाग में विभिन्न स्थानों पर विभिन्न धार्मिक आयोजनों में अपनी ओजस्वी वाणी से उद्बोधन देंगी। उदयपुर में 10 फरवरी को वात्सल्य सेवा समिति के तत्वावधान में प्रबुद्ध नागरिक सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा, साथ ही चित्तौडग़ढ़, भीलवाड़ा आदि स्थानों पर सर्व समाजों की बैठक भी होंगी जिसमें दीदी मां का सान्निध्य रहेगा।

समिति के वरिष्ठ सदस्य गोपाल कनेरिया एवं एमएल अग्रवाल ने बताया कि 10 फरवरी को शाम 4 से 7 बजे तक सुखाडिय़ा रंगमंच पर कार्यक्रम रहेगा जिसमें शहर के सभी प्रबुद्ध वर्ग को आमंत्रित किया जा रहा है। समिति के वरिष्ठ सदस्य कार्तिकेय नागर ने बताया 10 फरवरी को प्रात:काल दीदी मां 7:15 पर मेवाड़ एक्सप्रेस से उदयपुर आ रही है, जहां पर शहरवासियों द्वारा उनका स्वागत किया जाएगा एवं रैली के रूप में उन्हें अग्रसेन नगर स्थित निवास स्थान पर लाया जाएगा।

संगठन मंत्री विक्रम अग्रवाल ने बताया कि दीदी मां का एक सप्ताह का समय मेवाड़ को मिलने से पूरे संभाग में उत्साह का वातावरण है। समिति के रमेश तायलिया, धारेन्द्र सालगिया, माणक अग्रवाल, सुरेश मित्तल, अलका मूंदड़ा, पूनम छापरवाल सहित बड़ी संख्या में वात्सल्य सेवा समिति के पदाधिकारी, कार्यकर्ता, सदस्य व धर्मप्रेमी समाजजन कार्यक्रम की तैयारियों में जुट गए हैं। गौरतलब है कि जनवरी 2018 में दीदी मां की उदयपुर भव्य भागवत कथा हुई थी जिसमें पूरे संभाग धर्मप्रेमी महिला-पुरुष शामिल हुए थे।

Next Story
Share it