Action India
अन्य राज्य

सर्व धर्म सेवा समिति के राज्य अध्यक्ष व गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के सचिव नवजोत सिंह सिद्धू आए जेकेएसआरटीसी के चालकों के समर्थन में

सर्व धर्म सेवा समिति के राज्य अध्यक्ष व गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के सचिव नवजोत सिंह सिद्धू आए जेकेएसआरटीसी के चालकों के समर्थन में
X

कठुआ । एएनएन (Action News Network)

सर्व धर्म सेवा समिति के राज्य अध्यक्ष व गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के सचिव नवजोत सिंह सिद्धू ने जम्मू कश्मीर परिवहन निगम के चालक व सहचालकों का समर्थन किया हैं। बुधवार को नवजोत सिंह सिद्धू ने एक पत्रकार वार्ता का आयोजन किया, जिसमें उन्होंने जिला प्रशासन और जम्मू कश्मीर प्रदेश प्रशासन को आड़े हाथों लिया। उन्होंने जम्मू कश्मीर परिवहन निगम के चालकों व सह चालकों का बकाया वेतन और कोविड-19 से बचने के लिए किसी भी प्रकार की पीपीई किट मुहैया ना करवाने पर विरोध प्रकट किया। पत्रकारों को संबोधित करते हुए नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा के जिस प्रकार देशभर में कोरोना वायरस का प्रकोप बढ़ता जा रहा है और जम्मू कश्मीर के प्रवेश द्वार लखनपुर में जिस प्रकार स्वास्थ्य कर्मी और पुलिसकर्मी अपनी सेवाएं दे रहे हैं इसी प्रकार जम्मू-कश्मीर परिवहन निगम के चालक भी अपनी सेवाएं दे रहे हैं।

लेकिन इन चालकों की सुरक्षा को लेकर किसी का भी ध्यान नहीं है। उन्होंने जिला प्रशासन से मांग करते हुए कहा है कि यह लोग भी असल में कोरोना योद्धा हैं, क्योंकि जम्मू कश्मीर के प्रवेश द्वार लखनपुर के रास्ते हजारों की तादाद में जो लोग जम्मू कश्मीर के नागरिक अपने घरों तक पहुंचे हैं। उन्हें लाने का जिम्मा इन्हीं चालकों का था, जेकेएसआरटीसी के चालकों ने जम्मू कश्मीर के नागरिकों को उनके गृह जिले तक पहुंचाया है जो कि सम्मान पूर्वक है। सिद्धू ने प्रदेश प्रशासन से मांग की है कि इन चालकों का 3 महीने का बकाया वेतन जल्द जारी किया जाए, उसी के साथ-साथ पीपीई किट और हरएक चालक और सहचालक का 50 लाख का बीमा भी किया जाए।

उन्होंने कहा कि आज के इस कोविड के दौर में हर एक जगह बॉर्डर बना हुआ है। जिस प्रकार देश की सेना बॉर्डर पर बैठकर अपने देश की रक्षा करते हैं, इसी प्रकार जेकेएसआरटीसी के चालकों भी लखनपुर के प्रवेश द्वार बॉर्डर पर बैठकर अपनी सेवाएं दे रहे हैं, लेकिन उसके विपरीत इन्हें किसी भी प्रकार की कोई भी सुविधा मुहैया नहीं करवाई गई है। वहीं उन्होंने कहा कि इन चालकों की स्वास्थ्य जांच और कोविड-19 का टेस्ट भी होने चाहिए, क्योंकि यह चालक देश के विभिन्न हिस्सों में जाकर जम्मू-कश्मीर के नागरिकों को प्रदेश में लाने का काम कर रहे हैं।

Next Story
Share it