Top
Action India

सऊदी अरब: बादशाह सलामत है, महल से हो रही हैं गिरफ़्तारियां

लॉस एंजेल्स। एएनएन (Action News Network)

सऊदी अरब में बादशाह सलामत है, पर 'सत्ता पर क़ाबिज़' प्रिंस मुहम्मद सलमान के निर्देशों पर राजमहल से गिरफ़्तारियां जारी हैं। क्राउन प्रिंस मुहम्मद बिन सलमान के आदेश पर राजमहल से चाचा और भतीजों को गिरफ़्तार कर लिया गया है।

अमेरिकी मीडिया में बड़े ज़ोरों पर चर्चा है कि 84 वर्षीय बुज़ुर्गवार बादशाह सलमान के 'स्वास्थ्य' के मद्देनज़र महल में सब से वरिष्ठ और बादशाह के सगे भाई प्रिंस अहमद बिन अब्दुल अज़ीज़, उनके पुत्र प्रिंस नायफ को हिरासत में ले लिया गया है। क़यास लगाए जा रहे थे कि चाचा भतीजों की गिरफ़्तारियां बादशाह का तख़्ता पलटने की आशंका में की गई हैं।

बताया जाता है कि बादशाह सलमान पूरी तरह सेहतमंद हैं। बादशाह से मात्र दो रोज़ पहले गुरुवार को एक ब्रिटिश विदेशी सचिव ने राजमहल में मुलाक़ात की थी। शाही परिवार के चिकित्सक ने दो रोज़ पहले बादशाह के स्वास्थ्य की जांच की थी। बादशाह के लिखित निर्देश पर ही प्रिंस अहमद की गिरफ़्तारी हुई थी।

अमेरिकी मीडिया ने राजमहल सूत्रों के हवाले से बादशाह के बड़े पुत्र प्रिंस मुहम्मद सलमान की इस शंका को भी ज़ाहिर किया है कि उन्हें बादशाह का तख़्ता उलटने का भय था। हालांकि प्रिंस सलमान की सीधी देख रेख में मिलिट्री, आंतरिक सुरक्षा और नेशनल गार्ड आते हैं। कहा जा रहा है कि प्रिंस सलमान शाही निर्णय लेते समय परंपराओं और भावनाओं से ज़्यादा सरोकार नहीं रखते।

विदित हो, सन 2017 में प्रिंस सलमान के निर्देशों पर महल के दर्जनों प्रिंस और कारोबारियों को गिरफ़्तार किया गया था। उन पर कथित भ्रष्टाचार के आरोप लगाए गए थे। यही नहीं, उन्होंने यमन में मानवीय अधिकारों की परवाह नहीं करते हुए मिलिट्री कार्रवाई की। अमेरिकी दैनिक 'वाशिंगटन पोस्ट' के पत्रकार जमाल खशोगी की कथित हत्या के आरोप में दुनिया भर में आलोचना के शिकार बने।

प्रिंस नायफ, जिसे शुक्रवार को गिरफ़्तार किया गया बताते हैं, वह आंतरिक रक्षा और मिलिट्री का इंचार्ज भी था। लेकिन हिरासत के समय सऊदी मिलिट्री वेबसाइट में उन्हें किसी सरकारी पद पर नहीं दिखाया गया है। उनके छोटे भाई प्रिंस नवाफ़ बिन नायफ को भी हिरासत में ले लिया गया है।

Next Story
Share it