Top
Action India

शान्ता ने सराहा राष्ट्रपति भवन में कटौती का निर्णय, देश की सरकारें करें गैर योजना बजट में बीस फीसदी की कटौती

पालमपुर । एएनएन (Action News Network)

भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं हिमाचल के पूर्व मुख्यमंत्री एवं पूर्व सांसद शान्ता कुमार ने कहा है कि भारत के राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द द्वारा कोरोना सकंट के समय एक बहुत ही सराहनीय कदम उठाया है। उन्होने पूरे देश को रास्ता दिखाने की कोशिश की है। पूरे देश को उनकी इस सराहनीय पहल को अपने-अपने स्थान पर लागू करना चाहिए।

उन्होने कहा कि कोरोना संकट के कारण पूरे देश में प्रत्येक वर्ग पर आर्थिक मंदी की सबसे बड़ी समस्या होगी। कोरोना संकट लम्बा चलेगा। हर परिवार, समाज और सरकारों को आर्थिक मंदी का मुकाबला करने के लिए बचत के सुनहरी असूलो को अपनाना होगा। सबके लिए सबसे जरूरी यह मंत्र है कि अब केवल जरूरूत और जरूरत के अनुसार ही खर्च करना होगा। न सुविधा न आराम और शानोशौकत तो अब एक बहुत बड़ा अपराध और पाप हो जाएगा। राष्ट्रपति महोदय ने 30 प्रतिशत अपने वेतन की कटौती के साथ राष्ट्रपति भवन के खर्च में 20 प्रतिशत की कटौती का निर्णय किया है इससे 45 करोड़ रुपये की बचत होगी।

उन्होने कहा कि वह अपने लम्बे अनुभव के आधार पर कह सकते है कि सभी सरकारों में सभी जगह भयंकर फजूल खर्ची होती है। उन्होने भयंकर शब्द का प्रयोग जान-बूझ कर किया है। अति गरीब देश की सरकारे कई बार नवाबी तरीकों से खर्च करती है। मैं विस्तार में नही जाना चाहता। 1977 में सब प्रकार की बचत करके छोटे से हिमाचल में दो साल में 50 करोड़ रू0 की बचत की थी। इस प्रकार कई लाख करोड़ रू0 बचेगे।

शान्ता ने कहा कि भारत सरकार का कुल बजट लगभग 30 लाख करोड़ रू0 का है। गैर योजना 25 लाख करोड़ का। यदि इसमें 20 प्रतिशत की बचत की जाए तो भारत सरकार ही पांच लाख करोड़ की बचत कर सकती है। हिमााचल सरकार का वार्षिक बजट लगभग 50 हजार करोड़ रू0 का है, उसमें गैर योजना 40 हजार करोड़ रू0 है। यदि हिमाचल 20 प्रतिशत की बचत करे तो छोटे से हिमाचल की बचत ही आठ हजार करोड रू0 हो जाएगी। इसी तरह पूरे देश की सभी राज्य सरकारें 20 प्रतिशत बचत कर सकती है।

शान्ता कुमार ने भारत सरकार और सभी प्रदेश सरकारों से आग्रह किया है कि वे अपने गैर योजना बजट में कम से कम 20 प्रतिशत की कटौती का निर्णय अति शीघ्र करे। इस कदम से देशवासियों को एक बहुत अच्छा सन्देश जाएगा।

Next Story
Share it