Action India
अन्य राज्य

शिमला मिर्च के किसानों पर कोरोना की मार, करोड़ो का नुकसान

शिमला मिर्च के किसानों पर कोरोना की मार, करोड़ो का नुकसान
X

मुंबई ।एएनएन (Action News Network)

कोरोना के कहर से कोई भी अछूता नहीं है लेकिन सबस ज्यादा मार किसानों पर पड़ी है। शिमला मिर्च के दामों में भारी गिरावट से किसानों को करोड़ो का नुकसान हुआ हैं। पालघर के डहाणू इलाके में करीब 3200 एकड़ में शिमला मिर्च की खेती होती है। जिसमे करीब 20000 लोगो को परोक्ष या अपरोक्ष रूप से रोजगार मिलता है।

यहां से देश के कई इलाको में शिमला मिर्च जाती है। इस वर्ष फसल तैयार होने के दौरान ही पूरे देश में तालाबंदी हो गयी। जिससे 40 रुपये किलो बिकने वाली शिमला मिर्च को 10 रुपये में भी कोई लेने वाला नहीं मिला। और इस क्षेत्र के किसानों को करीब 60 करोड़ रुपयों का नुकसान हुआ है। इससे किसान हताश हैं।

बैंक ऋण उनकी सबसे बड़ी चिंता है। किसान स्वामीनाथ चौबे ने बताया कि कोरोना महामारी के कारण बाजार बंद थे। फसल तैयार होने के बाद भी किसान उसका निर्यात नही कर सके। जिससे फसल की लागत भी नही निकली। शिमला मिर्च की फसल की तैयारी किसान अगस्त से शुरू कर देते है, जो करीब 6 महीने तक चलती है।

लेकिन इस बार लॉकडाउन के चलते सब्जियों की मंडी, रेस्टोरेंट के बंद होने शिमला की मांग न के बराबर रही हताश होकर किसानों ने खेतो से जल्द फसल को उखाड़ कर उसमें आग लगाकर नष्ट कर रहे है। पालघर के जिला कृषि अधिकारी के.बी. तरकसे ने कहा कि किसानों को फसल के निर्यात के लिए पास जारी किए गए थे। जल्द ही फसलों के नुकसान का आंकलन किया जाएगा।

Next Story
Share it