Top
Action India

छात्र की संदिग्धावस्था में मौत के बाद अजा छात्रावास पहुंचे शिवराज, कहा दोषियों को नही छोड़ेंगे

छात्र की संदिग्धावस्था में मौत के बाद अजा छात्रावास पहुंचे शिवराज, कहा दोषियों को नही छोड़ेंगे
X

सीहोर। एएनएन (Action News Network)

सीहोर अनुसूचित जाति छात्रावास में एक छात्र की संदिग्धावस्था में मौत के बाद गुरुवार रात पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान व क्षेत्रीय सांसद रमाकांत भार्गव बुधनी स्थित अनुसूचित छात्रावास पहुंचे। यहां उन्होंने अनुसूचित जाति बालक सीनियर छात्रावास का निरीक्षण कर विद्यार्थियों से संवाद किया व भोजन, सफाई एवं व्यवस्थाओं के संबंध में विस्तार से चर्चा कर समस्याएं सुनकर संबंधित अधिकारियों को व्यवस्थाएं तुरंत दुरुस्त करने के निर्देश दिए।

मीडिया से बातचीत करते हुए शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मैंने अपने कार्यकाल में कई बड़े-बड़े छात्रावास बनवाए। यहां टीवी रूम से लेकर डायनिंग हॉल तक की व्यवस्था है लेकिन अब सारी व्यवस्था अव्यवस्था में परिवर्तित हो गई हैं। पिछले साल के चादर, कंबल हैं, लेकिन बच्चों का एक से ही काम चल रहा है। बाथरूम में बल्ब नहीं है और सफाई हो नहीं रही। छात्र की मौत पर शिवराज ने कहा कि छात्रावास के बच्चे श्रवण की जो मृत्यु हुई है, वह भी संदिग्धावस्था में हुई है।

जब वो बच्चा कमरे में नहीं था तो किसी जिम्मेदार ने उसे देखा क्यों नहीं, उसे आसपास ढूंढना चाहिए था। इस मामले की पूरी जांच गहराई से करवायेंगे और दोषी को नहीं छोड़ेंगे और न ही लापरवाह बचेगा।

शिवराज ने कहा कि सरकार को छात्र श्रवण पवार के परिवार की मदद करनी होगी। मैं जब मुख्यमंत्री था तो ऐसी मृत्यु पर एक-एक करोड़ रुपये तक राशि दे देता था। दुर्भाग्यपूर्ण मृत्यु हुई है, जिसका जिम्मेदार प्रशासन है, सरकार है। इसलिए दोषियों को दंडित और परिवार को आर्थिक सहायता देनी होगी। उन्होंने कहा कि 25 नवम्बर को इसी बुधनी में जनता की अदालत लगेगी, जिसमें बच्चों के मामलों को भी देखूंगा। अन्य हॉस्टल की क्या स्थिति है, उनकी शिकायतें भी मंगायेंगे और जनता की बाकी समस्याओं को भी देखेंगे।

छात्रावास का निरीक्षण करने के बाद शिवराज सिंह चौहान ने सीहोर जिले के ग्राम बडक़ुल पहुंचकर मृतक छात्र श्रवण पवार के शोकाकुल परिजनों से मुलाकात की और ढांढस बंधाते हुए उन्हें न्याय दिलाने का आश्वासन दिया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि संदिग्ध परिस्थितियों में हुई छात्र की मृत्यु की जांच होगी और दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा।

Next Story
Share it