Action India
अन्य राज्य

श्रमिको के पलायन से तारापुर औद्योगिक इकाई में पसरा सन्नाटा

श्रमिको के पलायन से तारापुर औद्योगिक इकाई में पसरा सन्नाटा
X

मुंबई । एएनएन (Action News Network)

लॉकडाउन में कुछ ढील मिलने के बाद बोईसर-तारापुर औद्योगिक क्षेत्र में स्थितित फैक्ट्रियों को शुरू करने की प्रक्रिया भले ही शुरू कर दी गई हो, लेकिन श्रमिको के अभाव में अब तक अधिकांश फैक्ट्रियों में मशीने बंद पड़ी है। कुछ फैक्ट्रियां चल भी रही है,तो एक ही शिप्ट चल पा रही है। पिछले दो महीने से तारापुर औद्योगिक क्षेत्र में सन्नाटा पसरा हुआ है। काम धंधे ठप होने के बाद यहां कार्य करने वाले हजारो प्रवासी श्रमिक या तो अपने गृह प्रदेशों में पहुँच चुके है। या जाने के लिए तैयार बैठे है। श्रमिको के अभाव में अभी भी सैकड़ो फैक्ट्रियों में काम ठप पड़ा हुआ है। बोईसर-तारापुर औद्योगिक क्षेत्र में करीब 1700 फैक्ट्रियां है।

जिनमे महिलाओं सहित लाखो लोग कार्य करते थे। टेक्नोकेम सर्विसेज फैक्ट्री के मालिक महेंद्र सिंह कहते है, कि सरकारों ने उद्योगों को फिर से शुरू करने के लिए छूट तो दे दी, लेकिन औद्योगिक इकाइयों को आवश्यक सुविधाएं आज तक नहीं मिली है। इसमें सबसे जरूरी है, कच्चे माल की आपूर्ति और माल बेचने के लिए बाजार का उपलब्ध होना। जिन श्रमिको ने समस्याओं से जूझकर पलायन किया है। उनकी जल्द वापसी संभव नही है। इसलिए श्रमिको के अभाव में फैक्ट्रियों के उत्पादन की लागत बढ़ेगी।

Next Story
Share it