Top
Action India

इंटर के नामांकन में उड़ी सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां, हो सकता है बड़ा कोरोना विस्फोट

इंटर के नामांकन में उड़ी सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां, हो सकता है बड़ा कोरोना विस्फोट
X

बेगूसराय । Action India News

कोरोना के संक्रमण से बचाने के लिए एक ओर सरकार ने पांच महीने से स्कूल-कॉलेज बंद कर रखा है। कंपार्टमेंटल परीक्षा में होने वाली परेशानी को देखते हुए मैट्रिक में फेल सभी छात्र-छात्राओं को पास कर दिया गया। वहीं, दूसरी ओर बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा इंटरमीडिएट में नामांकन कराया जा रहा है।

जिसमें कि सोशल डिस्टेंसिंग की जमकर धज्जियां उड़ाई जा रही है। यह धज्जियां कहीं ना कहीं कोरोना संक्रमण को बड़ा सामुदायिक रूप दे सकता है। लेकिन इस पर प्रशासन का कोई ध्यान नहीं जा रहा है। जल्दी नामांकन कराने के चक्कर में ना तो छात्र-छात्राएं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं और ना ही कॉलेज और जिला प्रशासन डिस्टेंसिंग का पालन करने की कोशिश कर रही है। ऐसा नजारा जिला के तमाम कॉलेज एवं स्कूलों में देखा जा रहा है।

बुधवार को कॉलेज खुलने से पहले ही जिला मुख्यालय के जीडी कॉलेज, एसबीएसएस कॉलेज समेत तमाम जगहों पर छात्र-छात्राओं की उमड़ी भीड़ शाम तक बनी रही। प्रथम चरण के नामांकन का अंतिम दिन रहने के कारण छात्र-छात्राएं पहले हम पहले हम के चक्कर में मारामारी करते रहे। जबकि कॉलेज के कर्मचारी छात्र-छात्राओं को लाइन में लगाने के बदले अपने कार्यालय में बैठकर तमाशा देखते रहे।

जिसको लेकर छात्र संगठनों में आक्रोश देखा जा रहा है। हालांकि नामांकन में परेशानी को देखते हुए तिथि विस्तारित कर 17 अगस्त कर दिया गया है। एनएसयूआई नेता राहुल कुमार ने बताया कि इंटरमीडिएट नामांकन के दौरान महाविद्यालय परिसर में महाविद्यालय के द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग के लिए जगह चिन्हित किया गया है। लेकिन हालात ऐसा है कि छात्र-छात्राएं मानने को तैयार नहीं दिख रहे हैं।

ऐसी हालत में कोरोना का संक्रमण बढ़ना लाजिमी है, जिसके जद में महाविद्यालय के कर्मी भी आ सकते हैं। महाविद्यालय प्रशासन अति शीघ्र जिला प्रशासन की सहायता लेकर सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करते हुए नामांकन की प्रक्रिया जारी रखें। अगर ऐसा नहीं कर पाते हैं तो फिर नामांकन की प्रक्रिया तत्काल बंद कर दी जाए और ऑनलाइन नामांकन की व्यवस्था किया जाए।

क्योंकि मानवता हेतु छात्र-छात्राएं एवं कॉलेज कर्मियों की जिंदगी की सुरक्षा अत्यावश्यक है। इधर, जीडी कॉलेज के प्राचार्य व्यवस्था दुरुस्त करने के बदले चार दिन से कॉलेज छोड़कर फरार हो गए हैं।

Next Story
Share it