Top
Action India

बेटे को इंसाफ दिलाने को लड़ाई लड़ रही 75 वर्षीय माँ

बेटे को इंसाफ दिलाने को लड़ाई लड़ रही 75 वर्षीय माँ
X

सोलन । एएनएन (Action News Network)

बेगुनाह साबित होने के बावजूद पिछले दो वर्षों से इंसाफ पाने और आरोपी को सजा दिलवाने के लिए वृद्ध मां इंसाफ की बाट जोह रही है । उनका कहना है कि उनकी आंखें बंद होने से पहले उन्हें इंसाफ होता देखने की इच्छा है । इनका कहना है कि इनकी उम्र मौजूदा समय में 75 वर्ष है । जिला सोलन के वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल भूमति में प्रधानाचार्य पद कार्यरत भूपेंद्र गुप्ता पर वर्ष 2018 में उसी स्कूल में अनुबंध पर (पीजीटी) पीटीए इतिहास की अध्यापिका से एनएसएस का चार्ज लेकर किसी अन्य को दे दिया गया था । इससे नाराज उस अध्यापिका ने भूपेंद्र गुप्ता पर छेड़छाड़ करने का आरोप लगाया।

आरोप की जांच के लिए उपमंडलाधिकारी अर्की, पुलिस विभाग शिमला, महिला आयोग और शिक्षा विभाग के साथ अन्य कई एजेंसियों को नियुक्त किया गया था । सभी एजेंसियों ने जांच के पश्चात प्रधानाचार्य को निर्दोष होने की पुष्टि करते हुए रिपोर्ट सरकार को सौंपी थी । संयुक्त निदेशक प्रशासनिक सोनिया ठाकुर को भी विभाग की ओर से इसकी जांच के लिए नियुक्त किया गया था । जिन्होंने रिपोर्ट में प्रधानाचार्य द्वारा एन एसएस के प्रभार को वापिस लिए जाने पर झूठे आरोप में फंसाने की बात कही थी । ये रिपोर्ट अप्रैल 2019 में सौंपी गई थी ।

23 मई 2019 को शिक्षा निदेशक इसी स्कूल में बतौर मुख्यातिथि पहुंचे थे जिन्होंने पत्रकारों के समक्ष भी भूपेंद्र गुप्ता पर लगे आरोप झूठे होने की बात कही थी तथा सरकार से आदेश मिलते ही दोषी महिला अध्यापिका के विरुद्ध भी करवाई करने की बात कही थी । उन्होंने कहा कि इस बाबत उन्होंने मुख्यमंत्री सेवा संकल्प में भी पत्र भेजा और कारवाई की मांग उठाई थी। उनका कहना है सरकार की ये दोहरी नीति अच्छी नहीं है । झूठे आरोप लगाने वाली महिला के विरुद्ध अगर जल्द कोई ठोस कदम नहीं उठाया जाता है तो उन्होंने कड़े कदम उठाने की बात कही है । उनके द्वारा उठाये गए कदम की जिम्मेदारी उन्होंने कहा कि विभाग और सरकार की होगी ।

Next Story
Share it