Action India
अन्य राज्य

धनबाद के 81 समेत झारखंड के विभिन्न जिलों के 1303 प्रवासी श्रमिकों को लेकर बंगलुरू से आई विशेष ट्रेन

धनबाद के 81 समेत झारखंड के विभिन्न जिलों के 1303 प्रवासी श्रमिकों को लेकर बंगलुरू से आई विशेष ट्रेन
X

धनबाद । एएनएन (Action News Network)

धनबाद के 81 समेत झारखंड के विभिन्न जिलों के 1303 प्रवासी श्रमिकों को लेकर बंगलुरू से विशेष ट्रेन संख्या 06271 सोमवार की सुबह 6 बजे धनबाद पहुंची। 24 बोगियों वाली विशेष ट्रेन में धनबाद, पलामू, गिरिडीह, लोहरदगा, गढ़वा समेत झारखंड के विभिन्न जिलों के 1303 प्रवासी श्रमिक तथा ओड़िशा के सुंदरगढ़ का एक प्रवासी श्रमिक धनबाद पहुंचें। इस ट्रेन से कुछ वैसे भी श्रमिक धनबाद पहुंचे जिन्होंने कर्नाटक से साइकिल चलाकर झारखंड लौटने की ठानी थी। इन श्रमिकों को जब जानकारी मिली कि बंगलुरू से विशेष ट्रेन झारखंड जाने वाली है तो उन्होंने अपना विचार बदल दिया और साइकिल के बजाय ट्रेन से झारखंड लौटने का निर्णय किया।

धनबाद डीसी अमित कुमार के निर्देश पर प्रवासी श्रमिकों को सबसे आगे और सबसे पीछे वाली एक साथ 2 - 2 बोगियों से शारीरिक दूरी बनाकर प्लेटफार्म पर उतारा गया। स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा थर्मल स्क्रीनिंग की गई। सैनिटाइजर से हैंड वॉश कराए गए और मास्क दिया गया। फूल देकर झारखंड में उनका स्वागत हुआ और फूड पैकेट एवं पानी देकर उन्हें संबंधित जिले की बसों में बैठाया गया। धनबाद के 81, बोकारो के 44, चतरा 54, देवघर के 43, दुमका के 31, पूर्वी सिंहभूम के 46, गढ़वा के 117, गिरिडीह के 275, गोड्डा के 44, हजारीबाग के 49, जामताड़ा के 17, सरायकेला के 35, कोडरमा के 34, लातेहार के 42, लोहरदगा के 15, पाकुड़ के 28, पलामू के 178, रामगढ़ के 17, रांची के 63, साहिबगंज के 3, सिमडेगा के 2, पश्चिम सिंहभूम के 76, गुमला के 8 तथा खूंटी और उड़िसा के सुंदरगढ़ जिले के एक-एक प्रवासी श्रमिक धनबाद पहुंचे।

उपायुक्त अमित कुमार के निर्देश पर बंगलुरू से लौटे धनबाद के 81 प्रवासी श्रमिकों को इंस्टीट्यूशनल कोरंटाइन सेंटर में भर्ती कराया जाएगा। झारखंड के विभिन्न जिलों तथा उड़ीसा के सुंदरगढ़ के प्रवासी श्रमिकों को उनके गंतव्य तक पहुंचाने के लिए उपायुक्त अमित कुमार के निर्देश पर जिला परिवहन पदाधिकारी ओम प्रकाश यादव ने 62 वाहनों का प्रबंध किया। इसमें 45 बड़ी बस, 8 छोटी बस तथा 9 छोटे वाहन का प्रबंध किया गया। चतरा, बोकारो, दुमका, देवघर, पूर्वी सिंहभूम, गोड्डा के लिए जिला गव्य विकास पदाधिकारी, गिरिडीह के लिए जिला कृषि पदाधिकारी, हजारीबाग, जामताड़ा, सरायकेला, पाकुड़, लोहरदगा, खूंटी, कोडरमा, लातेहार के लिए जिला भू संरक्षण पदाधिकारी, पलामू के लिए जिला उद्यान पदाधिकारी, गढ़वा के लिए जिला मत्स्य पदाधिकारी तथा रामगढ़, रांची, साहिबगंज, सिमडेगा, पश्चिम सिंहभूम, गुमला, सुंदरगढ़ के लिए कार्यपालक पदाधिकारी, जिला परिषद नोडल पदाधिकारी के रूप में शामिल थें।

Next Story
Share it