Action India

खेल जगत ने मदर्स डे पर जाहिर की अपनी भावनाएं

नई दिल्ली । एएनएन (Action News Network)

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर, युवराज सिंह और वीरेन्द्र सहवाग सहित कई खिलाड़ियों ने आज मदर्स डे के अवसर पर अपने मां के प्रति भावनाएं जाहिर की हैं।भारतीय टीम के पूर्व कप्तान एवं सलामी बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने ट्वीट किया, 'आप मेरे लिए आई हैं, क्योंकि सबकुछ के अलावा आप हमेशा अद्भुत और अपूर्णीय हैं। आपने मेरे लिए जो भी किया, उसके लिए शुक्रिया आई।”

भारतीय टीम के पूर्व आक्रामक सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने मदर्स डे के शुभ अवसर पर ट्वीट करते हुए लिखा, 'एक मां का प्यार आपको मिलने वाला प्यार है चाहे आप इसके लायक हो या नहीं।मां जैसा कोई नहीं। हर एक दिन मदर्स डे है।'भारतीय टीम के पूर्व मध्यक्रम के दिग्गज बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण ने इस अवसर पर कहा, 'जब आप अपनी मां को देखते हैं तो आप उसमें शुद्ध प्रेम को देख रहे होते हैं। मेरे जीवन को बेहतरीन बनाने के लिए मेरी अम्मा का धन्यवाद। अम्मा को और सभी माताओं को हैप्पी मदर्स डे।'

भारतीय बल्लेबाज मयंक अग्रवाल ने ट्वीट किया, “अच्छे समय पर हमारे साथ हंसने और सबसे बुरे समय में हमारे साथ रहने के लिए धन्यवाद। हमलोग आपके बिना क्या करेंगे? वह सब जो मैं हूँ, या कभी होने की उम्मीद करता हूँ, इसके लिए मैं अपनी माँ का एहसानमंद हूँ। हैप्पी मदर्स डे।”बांए हाथ के विस्फोटक बल्लेबाज सुरेश रैना ने ट्वीट किया, “आपके, बिना शर्त प्यार और मेरे लिए आपके द्वारा किए गए सभी बलिदानों के लिए धन्यवाद देने के लिए कोई शब्द पर्याप्त नहीं हैं। लव यू हमेशा के लिए मम्मा! आपको मदर्स डे की हार्दिक शुभकामनाएं।”

पूर्व भारतीय बल्लेबाज युवराज सिंह ने ट्वीट किया, “जब आप मदर्स डे पर सुबह उठते हैं और अपनी टॉयलेट सीट पर बैठने के बजाय आप उसकी गोद में बैठते हैं और वह आपसे प्यार करती है, लव यू मम्मी। मेरी सबसे अच्छी दोस्त। मेरी शक्ति का स्तंभ। आप सभी को मदर्स डे की हार्दिक शुभकामनाएं।” भारतीय महिला बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल ने ट्वीट किया, मुझे मेरी माँ की प्रार्थनाएँ याद हैं और उन्होंने हमेशा मेरा अनुसरण किया है। वे जीवन भर मेरे साथ रहें। मदर्स डे की हार्दिक शुभकामनाएं।”

उल्लेखनीय है कि वर्ष 1912 में मदर्स डे की शुरुआत अमेरिका से हुई थी। बताया जाता है कि एना जार्विस नाम की एक प्रतिष्ठित अमेरिकन एक्टिविस्ट अपनी मां से बेहद प्यार करती थीं। उन्होंने कभी शादी नहीं की और अपनी मां की देखभाल करती रहीं। जब उनकी मां की मौत हो गई तो उन्होंने प्यार जताने के लिए मदर्स डे मनाने की शुरुआत की। इसके बाद 9 मई 1914 में अमेरिकी राष्ट्रपति वुड्रो विल्सन ने लॉ पास करते हुए मई महीने के दूसरे रविवार को मदर्स डे मनाए जाने की आधिकारिक घोषणा की थी।

Next Story
Share it