Top
Action India

जेएनयू में मेस शुल्क पर छात्रों की भृकुटी तनी

जेएनयू में मेस शुल्क पर छात्रों की भृकुटी तनी
X

  • डीन को पत्र लिखकर जताया विरोध

नई दिल्ली । Action India News

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में शुक्रवार से मानसून समेस्टर के लिए छात्रों की पंजीकरण प्रक्रिया शुरू होगी। लेकिन पंजीकरण से पहले ही मेस शुल्क को लेकर विवाद उठ खड़ा हुआ है। छात्रावास अध्यक्ष ने डीन को पत्र लिखकर विरोध दर्ज कराया है।

दरअसल, जेएनयू प्रशासन ने 14 अगस्त को एक नोटिस जारी कर कहा था कि पंजीकरण से पहले छात्रों को सभी तरह के बकाया शुल्क जमा करने होंगे। इसमें मेस शुल्क, छात्रावास शुल्क भी शामिल है।

इस पर छात्रावास अध्यक्ष ने डीन आॅफ स्टूडेंट को लिखे पत्र में कहा है कि विश्वविद्यालय के नोटिफिकेशन पर अमल करते हुए छात्र मार्च महीने में ही अपने घर चले गए थे। इस दौरान छात्रों ने ना तो मेस का खाना खाया ना छात्रावास का उपयोग किया।

फिर छात्रों ने शुल्क क्यों वसूला जा रहा है। कुछ छात्रों को मजबूरन रुकना पड़ा था। लेकिन ऐसे छात्रों ने आरोप लगाया है कि उन्हे मार्च महीने के बाद से ही ब्रेकफास्ट तक नहीं मिला। जबकि खाने की गुणवत्ता भी खराब था।

पत्र में कहा गया है कि लॉकडाउन से पहले छात्रों को छात्रवृत्ति नहीं मिली थी। चार-पांच महीने गुजर चुके हैं लेकिन अभी भी छात्रवृत्ति कब मिलेगी पता नहीं? इस विषम परिस्थिति में छात्रवृत्ति तो मिली नहीं ऊपर से मेस शुल्क मांगा जा रहा है। डीन से गुजारिश की गई है कि मेस शुल्क वापस लें। छात्रों को पुरानी दर यानी प्रति महीने 2500 रुपये मेस शुल्क जमा करना होगा।

Next Story
Share it