Action India
टेक्नोलॉजी

ड्राइव के दौरान चार्ज कर सकेंगे इलेक्ट्रिक व्हीकल, इस देश में बन रहा वायरलेस चार्जिंग सिस्टम

ड्राइव के दौरान चार्ज कर सकेंगे इलेक्ट्रिक व्हीकल, इस देश में बन रहा वायरलेस चार्जिंग सिस्टम
X

एक्शन इंडिया न्यूज़


जब दुनिया भर के देश मजबूत चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर बनाने पर ध्यान दे रहे हैं, वहीं दूसरी ओर इटली इलेक्ट्रिक व्हीकल चार्जिंग के लिए नई टेक्नोलॉजी विकसित कर रहा है. हाल ही में इटली की ऑटोमोबाइल कंपनी Stellantis ने ऐसी टेक्नोलॉजी विकसित की है, जिससे किसी भी इलेक्ट्रिक व्हीकल को बिना चार्जर के ही चार्ज किया जा सकेगा. खास बात यह है कि इससे रोड व्हीकल को ड्राइव करते वक्त भी चार्ज कर सकेंगे. हाल ही में इस प्रोजेक्ट की टेस्टिंग की गई.

कंपनी ने इसके लिए रोड के नीचे डायनेमिक वायरलेस पावर ट्रांसफर (DWPT) टेक्नोलॉजी इंस्टॉल की है, जो वायरलेस चार्जिंग का एक सिस्टम है. कंपनी ने इसे इटली के A35 ऑटोस्ट्राडा के पास बने क्लोज-सर्किट में स्थापित किया है. जल्द ही इसका ट्रायल शुरू किया जाएगा. इसे एरिना डेल फुतुरो यानी भविष्य का एरिना नाम दिया गया है. यह सड़क पट्टी 1,050 मीटर का ट्रैक है, जिसे 1-मेगावाट डीडब्ल्यूपीटी सिस्टम के साथ चलाया जाता है. टेस्टिंग के लिए इस रोड से दो इलेक्ट्रिक कारों गुजारा जाएगा.

चार्जिंग में लगने वाले समय से मिलेगा छुटकारा

Stellantis ग्लोबल ई-मोबिलिटी के हेड Anne-Lise Richard ने बताया कि इलेक्ट्रिक व्हीकल की कम रेंज उसकी सबसे बड़ी कमजोरी है. ग्राहकों के लिए भी एक चिंता का विषय है. इस इनोवेटिव से इसी समस्या का छुटकारा मिलेगा. उन्होंने बताया, 'हम भविष्य में इलेक्ट्रिक मोबिलिटी को बढ़ावा देने के लिए अपनी भागीदारी को बढ़ा रहे हैं. DWPT टेक्नोलॉजी से हमें ग्राहकों की आवश्यकताओं के लिए एक ठोस विकल्प मिल सकेगा. चलते समय वाहनों को चार्ज करने से चार्जिंग समय की बहुत बचत होगी.

रोड पर मिलेगी 5G कनेक्टिविटी

इस रोड स्ट्रिप पर यात्रियों के लिए फास्ट और इंटरनेट उपलब्ध कराने के लिए 5G कनेक्टिविटी और इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IoT) तकनीक भी उपलब्ध कराई जाएगी. इस प्रोजेक्ट के साथ कंपनी इलेक्ट्रिफिकेशन को बढ़ावा देने के लिए और ज्यादा एडवांस सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी को विकसित करने के लिए 30 बिलियन यूरो का निवेश करने की भी योजना बना रही है.

Next Story
Share it