राजनीतिक

त्रिपुरा : विभागों से नाखुश टिपरा मोथा पार्टी के मंत्री देबबर्मा अमित शाह के समक्ष उठाएंगे मुद्दा

अगरतला/कोझिकोड

 लोकसभा चुनाव से पहले, त्रिपुरा की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व में बनी सरकार में मंत्री बने टिपरा मोथा नेता अनिमेष देबबर्मा ने कहा कि वह उन्हें आवंटित विभागों से नाखुश हैं और इस मुद्दे को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के समक्ष उठाने पर विचार कर रहे हैं।संवाददाताओं से बातचीत में अनिमेष देबबर्मा ने कहा कि वह मुख्यमंत्री मणिक साहा के सामने इस मुद्दे को उठा चुके हैं।

उन्होंने कहा, ‘मुझे आवंटित विभागों से मैं खुश नहीं हूं। वन विभाग तो ठीक है, लेकिन प्रिंटिंग एवं स्टेशनरी तथा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी (टीआरईडीए को छोड़कर)… इससे मैं खुश नहीं हूं। मैंने कुछ दिन पहले ही मुख्यमंत्री से मुलाकात की थी और उनसे कुछ महत्वपूर्ण विभाग आवंटित करने का आग्रह किया था, ताकि मैं ग्रामीण लोगों की मदद कर सकूं। इसमें कुछ भी छिपाने जैसा नहीं है।’

देबबर्मा ने कहा कि वह जल्द ही दिल्ली जाकर गृह मंत्री अमित शाह से मिलेंगे और उन्हें दोबारा गृह मंत्रालय का कार्यभार संभालने के लिए बधाई देंगे। उन्होंने कहा कि अपने मुद्दे को भी शाह के सामने उठाएंगे।

उन्होंने कहा, ‘मैं पिछले 22 साल से राजनीति में हूं। कई विधायकों को राजनीति में केवल पांच वर्ष पूरे करने के बाद ही कई चीजें मिल जाती हैं। अगर मुझे (महत्वपूर्ण विभाग) नहीं मिलता तो कोई बात नहीं है। मैं सरकार के खिलाफ नहीं हूं, लेकिन मुझे काम करना है।’

अनिमेष देबबर्मा ने आगे कहा, ‘अगर कोई मेरे अनुभव को देखे तो मैं कई साल पहले विधायक चुना गया था और उसके बाद मैंने त्रिपुरा जनजातीय क्षेत्र स्वायत्त जिला परिषद (टीटीएएडीसी) में कार्यकारी सदस्य के रूप में काम किया। इसके साथ ही विधानसभा में विपक्ष के नेता के रूप में भी मैंने अपने कर्तव्यों का निर्वहन किया। मैं मुख्यमंत्री से आग्रह करता हूं कि वे मुझे महत्वपूर्ण विभाग प्रदान करें और मैं उस विभाग के लिए कुशलता से काम करूंगा।’

मार्च में टिपरा मोथा पार्टी के राज्य सरकार में शामिल होने के बाद विपक्ष के नेता अनिमेष देबबर्मा और बृषकेतु देबबर्मा को मंत्री बनाया गया है। बृषकेतु देबबर्मा को उद्योग एवं वाणिज्य विभाग में राज्य मंत्री बनाया गया है। वहीं, अनिमेष देबबर्मा को वन विभाग के साथ साथ प्रिंटिंग एवं स्टेशनरी तथा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग की जिम्मेदारी दी गई है।

मुझे बड़ी जिम्मेदारी मिली, सभी के समर्थन की बदौलत यहां पहुंचा हूं : सुरेश गोपी

 केंद्रीय मंत्री और त्रिशूर लोकसभा सीट से सांसद सुरेश गोपी ने  कहा कि उन्हें एक बड़ी जिम्मेदारी दी गई है और क्षेत्र के सभी लोगों के समर्थन के कारण उन्हें नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार के सदस्य के रूप में एक नई भूमिका मिली है।

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की सरकार में गोपी को पर्यटन एवं पेट्रोलियम राज्य मंत्री का पद सौंपा गया है। मंत्री बनने के बाद पहली बार केरल लौटे गोपी ने आज (बुधवार) सुबह कोझिकोड शहर में थली महादेव मंदिर में पूजा की।

अभिनेता से राजनेता बने सुरेश ने संवाददाताओं को संबोधित करते हुए कहा कि उनका मंदिरों और लोगों के साथ खास संबंध है और उन्होंने इन सब बातों को ध्यान में रखा है। उन्होंने कहा, ”सभी वर्ग के लोगों ने मेरा साथ दिया। मैं किसी को भी नहीं छोड़ सकता। मैंने एक जिम्मेदारी ली है। सबके समर्थन से ही मैं यहां तक पहुंचा हूं।”

सुरेश गोपी ने कहा कि जनता की उन्हें अपने करीब रखेगी। गोपी ने भारत के पर्यटन राज्य मंत्री का पद संभालने पर कहा कि उनके पास बहुत बड़ी जिम्मेदारी है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि पर्यटन गतिविधियों के लिए देश में प्रमुख स्थानों की पहचान करना उनका अहम कार्य होगा।

सांसद गोपी ने कहा कि फिलहाल प्रधानमंत्री ने उनसे केवल केरल के बारे में ही बात की है।

गोपी ने केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन की एक पुजारी पर की गई टिप्पणी और कांग्रेस सांसद एम के राघवन की कोझिकोड में एम्स अस्पताल की मांग सहित किसी भी राजनीतिक मुद्दे पर प्रतिक्रिया देने से इनकार करते हुए कहा कि वह ऐसी किसी भी चर्चा का हिस्सा नहीं बनेंगे।

राघवन की एम्स अस्पताल की मांग पर गोपी ने कहा कि कांग्रेस सांसद को यह मांग करने का पूरा अधिकार है।

उन्होंने कहा, ”मेरे भी कुछ अधिकार हैं। मैंने अपने अधिकार और इच्छाएं बता दी है।”

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के उम्मीदवार के तौर पर सुरेश गोपी ने त्रिशूर सीट पर जीत हासिल करते हुए केरल में पार्टी के लिए इतिहास रचा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button