Action India
अन्य राज्य

सब्जी के बीच छिपाकर मादक पदार्थों की तस्करी करने वाले अंतरराज्यीय गिरोह के दो गुर्गे गिरफ्तार

सब्जी के बीच छिपाकर मादक पदार्थों की तस्करी करने वाले अंतरराज्यीय गिरोह के दो गुर्गे गिरफ्तार
X

कोलकाता । एएनएन (Action News Network)

कोलकाता पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) की टीम ने गुप्त सूचना के आधार पर छापेमारी कर अंतरराज्यीय मादक तस्करी गिरोह के दो गुर्गों को गिरफ्तार किया है। इनकी पहचान 38 साल के मुकेश सरोज और 32 साल के धीरजलाल सरोज के तौर पर हुई है। दोनों ही उत्तर प्रदेश के संत रविदास नगर के रहने वाले हैं। लॉकडाउन के बीच आवश्यक सामानों की आपूर्ति के लिए मिली छूट का फायदा उठाकर ट्रकों से लाए जा रहे सब्जियों के बीच मादक पदार्थों को छिपाकर तस्करी करने कोलकाता पहुंचे थे। एसटीएफ के उपायुक्त आईपीएस अपराजिता रॉय ने बताया कि इन्हें सोमवार देर रात गिरफ्तार किया गया है। एसटीएफ को सूचना मिली थी कि उत्तर प्रदेश से ट्रकों में भरकर कुम्हड़ा लाया जा रहा है जिसमें छिपाकर मादक पदार्थों की तस्करी हो रही है।

पुख्ता सूचना के आधार पर छह चक्के वाले संदिग्ध ट्रक को कोलकाता के हेस्टिंग्स थाना अंतर्गत बेकरी रोड में रोककर तलाशी ली गई। इसमें डेढ़ टन कुम्हड़ा लदे हुए थे। लेकिन इसी के नीचे 100 कार्टून में प्रतिबंधित कफ सिरप फैंसीडिल छुपाया गया था। प्रत्येक कार्टून में 100 बोतल था। यानी कुल 10000 बोतल फैंसीडिल बरामद किया गया है जिसकी भारत में कीमत ₹154000 रुपये है। बांग्लादेश की मुद्रा में इसकी कीमत 20 लाख टाका आंकी गई है। इसके तुरंत बाद चालक मुकेश और खलासी धीरज को गिरफ्तार कर लिया गया। अपराजिता रॉय ने बताया है कि फैंसीडिल भारत में जिस कीमत पर खरीदी जाती है उससे तीन गुना कीमत पर बांग्लादेश में बेची जाती है क्योंकि इसमें कोडाइन नाम का रसायन होता है जो मादक है और बांग्लादेश में बड़े पैमाने पर लोग इसका इस्तेमाल नशा के लिए करते हैं।

भारत में यह प्रतिबंधित है इसलिए ऊंची कीमत पर बांग्लादेश में बेची जाती है। दोनों तस्करों से पूछताछ कर इनके अन्य साथियों के बारे में पता लगाने की कोशिश की जा रही है। इन लोगों ने बताया है कि लॉकडाउन के बीच भी लगातार सब्जियों में छिपाकर मादक पदार्थों की तस्करी न केवल पश्चिम बंगाल बल्कि पूर्वोत्तर राज्यों में भी करते रहे हैं। कोलकाता और अन्य राज्यों में इनके कई अन्य साथी हैं, जिनके बारे में पता लगाने की कोशिशें तेज कर दी गई हैं। मंगलवार को इन्हें बैंकशाल कोर्ट में पेश किया जाएगा।

Next Story
Share it