Top
Action India

रूस के साथ व्यापक परमाणु हथियार समझौते का इच्छुक है अमेरिका

रूस के साथ व्यापक परमाणु हथियार समझौते का इच्छुक है अमेरिका
X

नई दिल्ली । एएनएन (Action News Network)

रूस के साथ एक नए समझौते पर बातचीत कर रहे अमेरिकी दूत ने मंगलवार को कहा कि अमेरिका चाहता है कि केवल रणनीतिक परमाणु हथियारों के बजाय सभी परमाणु हथियारों को प्रतिबंधित करने वाली एक व्यापक संधि हो।

आर्म्स कंट्रोल पर राष्ट्रपति के विशेष दूत मार्शल बिलिंग्सल ने कहा कि चीन को भी इस प्रक्रिया में शामिल होना चाहिए।फरवरी में समाप्त हो रही अमेरिका और रूस के बीच प्रमुख परमाणु हथियार संधि न्यू स्टार्ट को बदलने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने चीन को भी वार्ता में शामिल करने की मांग की है।

वाशिंगटन चीन सहित एक त्रिपक्षीय समझौता चाहता है। उसका कहना है कि बीजिंग गुप्त रूप से अपने शस्त्रागार के आकार और पहुंच को बढ़ाने की कोशिश कर रहा है, लेकिन मास्को संभवतः फ्रांस और ब्रिटेन सहित एक बहुपक्षीय समझौते का पक्षधर है।

एक समाचार सम्मेलन में यह पूछे जाने पर कि क्या नया स्टार्ट बढ़ाया जाएगा? बिलिंग्सल ने कहा कि "क्या मैं कहूंगा कि हमने एक या दूसरे तरीके से निर्णय नहीं लिया है।" वह रूसी उप विदेश मंत्री सर्गेई रयाबकोव के साथ पहले दौर की वार्ता के एकदिन बाद बोल रहे थे।

दोनों पक्षों ने कई तकनीकी कार्य समूहों की स्थापना के लिए सहमति व्यक्त की और दूसरे दौर की वार्ता संभवत: जुलाई के अंत या अगस्त की शुरुआत में आयोजित की जाएगी। यह कार्य समूहों की प्रगति पर निर्भर करता है। उन्होंने यह साफ नहीं किया कि कार्य समूह क्या काम करेंगे।

बिलिंग्सल ने कहा, "हम बहुत स्पष्ट हैं कि तेजी से परमाणु हथियारों से संपन्न होती दुनिया में एक तीसरा देश है जो वास्तव में हमारी बराबरी की ओर बढ़ रहा है। ऐसी स्थिति में केवल द्विपक्षीय परमाणु हथियारों के नियंत्रण के शीत युद्ध के फैसले को बनाए रखने का वास्तव में कोई मतलब नहीं होगा।" हालाँकि रूस ने कहा कि चीन का इसमें शामिल होना अवास्तविक है।

Next Story
Share it