Action India
अन्य राज्य

कोरोना अनलाकडाउन वन शुरू होते ही रोडपटरी दुकानदार खुश

कोरोना अनलाकडाउन वन शुरू होते ही रोडपटरी दुकानदार खुश
X

प्रयागराज । एएनएन (Action News Network)

कोरोना महामारी में लाकडाउन शुरू होने के बाद से साठ दिन से सड़क किनारे कमाने वाले पटरी दुकानदारों की जिंदगी थम सी गई थी। अनलाक डाउन की गाइडलाइंस जारी होते ही ऐसे सभी छोटे एवं कम पूंजी वाले दुकानदारों के चेहरों पर खुशी आ गई। हालांकि अभी ग्राहकों की संख्या कम है लेकिन जीविका का साधन शुरू हो गया। यही सबसे बड़ी खुशी है।जनता कर्फ्यू के बाद से पूरे देश में महामारी के संक्रमण रोकने और जागरूकता के प्रथम लाकडाउन शुरू होते ही सड़क किनारे जीवन यापन करने वाले रेड़ी वाले, मोची, चाय, चाट ,खुमचा, साइकिल, मोटर साइकिल की मरम्मत करके परिवार का भरण-पोषण करने वालो की कमाई का जरिया बन्द होने से उनके जीवन पर संकट आ गया। 22 मार्च से अबतक किसी तरह कोरोना महासंग्राम में सरकार के साथ खड़ा रहा।

रोडपटरी दुकानदारों के खिल उठे चेहरे

सड़क किनारे साईकिल की मरम्मत करके जीवन यापन करने वाले बैरहना निवासी विपिन पुत्र पप्पू दुबे ने बताया कि जिस दिन से लाकडाउन शुरू हुआ तो पूरी आमदनी ठप हो गई। हमारे जैसे लोग रोज कमाते और खाते हैं। जब कमाई बन्द हुई तो कोई रास्ता नहीं दिखाई दे रहा था। लेकिन रासन एवं खाना मिलने से जीने आशा की किरण दिखाई दी। मोदी एवं योगी ने जब रोडपटरी दुकानदारों को राहत दी। अनलाकडाउन शुरू होते ही मैंने दुकान दो दिन से खोलने लगा और कुछ आमदनी शुरू हो गया।

पकौड़ी व जलेबी की दुकान चलाने वाले सोहबतियाबाग निवासी राजेश गुप्ता ने बताया कि इसी दुकान के सहारे पूरे परिवार का भरण-पोषण होता है। सोमवार सुबह से दुकान खोलने लगे। कुछ आमदनी शुरू हो गई है। सरकार के द्वारा लिए गए सुझावों का पूरा पालन कर रहे हैं।
ठेले पर लाई व चना बेचने वाले बिहार के रहने वाले महतो का कहना है कि दो दिन से काम शुरू किया है, लेकिन पहले जैसी कमाई नहीं हो पा रही है। फिर भी सरकार यह कदम अच्छा है।

सड़क पर जीने वालो की बड़ी राहत

मोटर साइकिल मकैनिक बाबू मौर्य का कहना है रोड किनारे जीवन यापन करने वालों के लिए सरकार बड़ी राहत दिया है। लाखों परिवारों के लिए राहत मिलेगी। लोग अपना रोजगार शुरू कर पाएंगे।

Next Story
Share it