Top
Action India

उप्र : हापुड़ का उपैड़ा गांव बना मिसाल, सीसीटीवी कैमरों से हो रही लोगों की निगरानी

उप्र : हापुड़ का उपैड़ा गांव बना मिसाल, सीसीटीवी कैमरों से हो रही लोगों की निगरानी
X

हापुड़ । एएनएन (Action News Network)

जनपद का उपैड़ा ग्राम लाॅकडाउन का पालन करने के लिए पूरे देश के लिए मिसाल बन गया है। ग्राम में लगाए गए सीसीटीवी कैमरों से पूरे गांव में निगरानी की जा रही है और लाॅकडाउन का उल्लंघन कर घर से बाहर निकलने वालों को लाउडस्पीकर के माध्यम से अपने घरों में जाने का निर्देश दिया जा रहा है। इस कारण गांव की गलियां सुनसान हैं और लोग अपने घरों में रह कर लाॅकडाउन के नियम का पूरी तरह पालन कर रहे हैं।

हापुड़ तहसील का उपैड़ा गांव देश की अन्य ग्राम पंचायतों के लिए मिसाल बन गया है। गांव में लगभग दो वर्ष पूर्व सुरक्षा के दृष्टिकोण से 64 सीसीटीवी कैमरे लगवाए गए थे। इन कैमरों के माध्यम से गांव में निगरानी रखने के लिए एक नियंत्रण कक्ष बनाया गया था। इस कक्ष में लगाए गए स्क्रीन पर पूरे गांव में गलियों और चौराहों पर लगाए गए सीसीटीवी कैमरों से लिए जाने वाले दृश्य दिखाई देते रहते हैं। लाॅकडाउन के दौरान ग्राम प्रधान ने इन कैमरों का उपयोग करने का निर्णय लिया।

उन्होंने गांव में जगह-जगह 20 लाउडस्पीकर भी लगवा दिए हैं। इन लाउडस्पीकर का कनेक्शन भी नियंत्रण कक्ष से कर दिया गया है। इसके बाद लाॅकडाउन की घोषणा होने के बाद नियंत्रण कक्ष में बैठा व्यक्ति गांव की गलियों में घर से बाहर निकलने वाले लोगों पर निगाह रख रहा है। जैसे ही उसे गलियों में कोई व्यक्ति घूमता अथवा खड़ा मिलता है, वह तुरंत लाउडस्पीकर पर उस जगह का नाम अथवा व्यक्ति का नाम लेकर वहां खड़े अथवा घूम रहे लोगों को अपने घरों में जाने का अनुरोध करता है। बार-बार अनुरोध किए जाने के बावजूद यदि कोई व्यक्ति वहां से नहीं जाता तो उसे पुलिस को सूचना देने की चेतावनी दे दी जाती है। इसके बाद कोई भी व्यक्ति गलियों में नहीं दिखाई नहीं देता है।

ग्राम प्रधान की हो रही है सराहना

ग्राम प्रधान मेघराज सिंह के किए गए इस अनुकरणीय प्रयास की चारों ओर प्रशंसा हो रही है। कुछ ग्रामीणों का कहना है कि उनके ग्राम की चर्चा प्रधानमंत्री कार्यालय तक पहुंच गई है। जनपद के कई बड़े पदाधिकारी उनकी व्यवस्था को देखने के लिए उनके ग्राम में आ चुके हैं। उन्होंने इस प्रयास की खुले दिल से प्रशंसा की है। ग्राम उपैड़ा निवासी अनिल त्यागी का कहना है कि उन्हें अपने ग्राम प्रधान पर गर्व है। ग्राम प्रधान मेघराज सिंह ने कड़ी मेहनत कर ग्राम का विकास किया है। उन्होंने गांव की अधिकतर गलियों में सिमेंटिड सड़कें बनवा दी हैं। पंचायत घर का निर्माण कराया, पार्कों का निर्माण कराया और गलियों और चैराहों पर सीसीटीवी कैमरे लगावाए हैं। ग्राम प्रधान गांव के विकास के लिए शासन से मिलने वाली सुविधाओं की योजना गांव में लाने के लिए हमेशा प्रयासरत रहते हैं।

64 सीसीटीवी और 20 लाउडस्पीकर लगाए गए हैं : ग्राम प्रधान

ग्राम प्रधान मेघराज सिंह ने बताया कि गांव में 64 सीसीटीवी कैमरे और 20 लाउडस्पीकर लगाए गए। इसके लिए धन की व्यवस्था ग्राम पंचायत की निधि से की गई। उन्होंने बताया कि लाॅक डाउन की घोषणा होने के बाद पहले तो कई दिन तक वह स्वयं अपने सहयोगियों के साथ गांव में घूम-घूम कर गलियों में घूम रहे लोगों से अपने घरों के अंदर जाने का अनुरोध करते रहे। उनके इस प्रयास का कोई बहुत अच्छा परिणाम नहीं मिल पाया। उनके पहुंचने पर तो लोग घरों के अंदर चले जाते लेकिन वहां से चले आने पर लोग फिर बाहर आ जाते थे। वह कोरोना संक्रमण के इस दौर में अपने गांववासियों के लिए काफी चिंतित थे।

अंततः उन्होंने गांव में लगाए गए सीसीटीवी कैमरों और लाउडस्पीकर का प्रयोग करने का निश्चय किया। इसके बाद सीसीटीवी कैमरों से लिए गए दृश्य देखने के लिए बनाए गए नियंत्रण कक्ष में छह लोगों को तैनात किया। प्रत्येक व्यक्ति आठ घंटे तक नियंत्रण कक्ष में बैठ कर निगरानी करता है और गलियों में घूमते दिखाई देने वाले लोेगों को लाउडस्पीकर पर बोल कर अपने घर जाने के लिए निर्देशित करता है। उन्होंने बताया कि इस व्यवस्था को अपनाने से काफी लाभ हुआ।

अब उन्हें प्रत्येक गली में जाकर लोगों को घर में बैठने के लिए निवेदन नहीं करना पड़ता है और लाउडस्पीकर पर अपना नाम अथवा जगह का नाम सुन कर लोग तुरंत अपने घरों में चले जाते हैं। इस कारण गांव में लाॅक डाउन का पूरी तरह पालन हो रहा है और गांववासी कोरोना के संक्रमण से बचे हुए है। गांववासियों और प्रशासनिक अधिकारियों ने भी उनकी व्यवस्था की प्रशंसा की है। उन्हें संतोष है कि वह अपने प्रयास से गांववासियों को लाॅक डाउन का पालन कराने और किसी प्रकार के खतरे से बचाने में सफल रहे हैं।

इनका कहना है...अपर जिलाधिकारी जयनाथ यादव का कहना है कि ग्राम पंचायत उपैड़ा द्वारा किया गया ग्रामवासियों को उनके घरों में रहने के लिए सचेत करने का यह तरीका बहुत बढ़िया और अनुकरणीय है। ग्राम प्रधान की ग्रामवासियों और सरकार के आदेश का पालन करने के लिए प्रतिबद्ध्ता प्रशंसनीय है। उन्होंने गांव उपैड़ा के निवासियों के साथ-साथ समस्त जनपदवासियों से कोरोना संक्रमण के इस काल में अपने-अपने घरों में रहने की अपील की।

Next Story
Share it