Action India
अन्य राज्य

Up में छात्रवृत्ति के अंतर्गत हुई अरबों की हेराफेरी, अधिकारियों पर हुए केस दर्ज

Up में छात्रवृत्ति के अंतर्गत हुई अरबों की हेराफेरी, अधिकारियों पर हुए केस दर्ज
X

उत्तर-प्रदेश, ब्यूरो | उत्तर प्रदेश में हुए छात्रवृत्ति घोटाले का खुलासा हो गया है। ये घोटाला उन्नाव जिले के 10 ब्लॉक्स के अन्दर ही अन्दर है। बताया जा रहा है कि घोटा करोड़ों का नहीं बल्कि अरबों में हुआ है। अर्तिक अपराध अनुसंधान ने इस मामले पर अपराधियों के खिलाफ मुक़दमे दर्ज कर दिए हैं। आर्थिक अपराध अनुसंधान ने सरकार के कहे अनुसार 2001 से लेकर 2010 की छात्रवृत्ति की जांच की थी। जांच के बाद पता चला कि इसमें लाखों नहीं करोड़ों नहीं बल्कि अरबों की हेरा फेरी की गयी है। जांच के दौरान यह भी पता लगा कि छात्रवृत्ति फर्जी लोगों को दी गयी थी। इस मामले में 10 जिला समाज कल्याण अधिकारी तथा 2 पिछड़े वर्ग के कल्याण अधिकारीयों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। जांच के दौरान पता लगा कि इस घोटाले में पंचायत सचिव और अफसरों के साथ साथ विद्यालयों के प्रधानाचार्य तथा ग्राम प्रधान भी शामिल थे। ऐसे ही एक मामले में इस से पहले 2012 में आठ लोगों को गिरफ्तार किया गया था।

दरअसल यूपी में सरकार को 2001 से लेकर सन 2010 के बीच हुए छात्रवृत्ति घोटाले की भनक लग गयी थी। इसके बाद सरकार ने जांच करवाई तो केवल मेरठ और इटावा से 15 करोड़ से ज्यादा रुपयों के घोटाले की बात सामने आई। इसके बाद सरकार ने इस जांच को और भी तेजी से जारी किय़ा। आपको बता दें कि इस घोटाले की जांच यूपी सरकार ने EOW को तीन साल पहली सौंप दिया था, जिसकी कारवाई अभी तक जारी है।

Next Story
Share it