Top
Action India

राज्यपाल ने इविवि के ऐतिहासिक विजयनगरम हॉल और सेवन स्टोरी बिल्डिंग का किया उद्घाटन

राज्यपाल ने इविवि के ऐतिहासिक विजयनगरम हॉल और सेवन स्टोरी बिल्डिंग का किया उद्घाटन
X

इलाहाबाद संग्रहालय में 'प्रयागराज परिक्षेत्र में गंगा की सांस्कृतिक विरासत' प्रर्दशनी का किया शुभारम्भ

प्रयागराज। एक्शन इंडिया न्यूज़

राज्यपाल आनन्दीबेन पटेल ने गुरुवार को इलाहाबाद केन्द्रीय विश्वविद्यालय के विज्ञान संकाय स्थित अद्भुत नक्काशी एवं खूबसूरती से लिपटा ऐतिहासिक विजयनगरम हॉल और सेवन स्टोरी बिल्डिंग का फीता काटकर उद्घाटन किया। साथ ही हॉल में कुछ देर बैठकर अवलोकन किया।

विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. संगीता श्रीवास्तव ने राज्यपाल को स्मृति चिह्न भेंट किया गया। इस अवसर पर राज्यपाल द्वारा हॉल पर आधारित विशेष डाक कवर जारी किया गया। उन्होंने विश्वविद्यालय द्वारा लगायी गयी 36 महान विभूतियों के चित्रों की प्रदर्शनी का अनावरण करते हुए अवलोकन भी किया।

विजयनगरम हॉल में गौतम बुद्ध की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया एवं विश्वविद्यालय के प्रांगण में शीघ्र खुलने वाले कामधेनू चेयर के लिहाज से गायों के संरक्षण की भावना का दर्शाती एक गाय और बछड़े की प्रतिमा का उद्घाटन किया। राज्यपाल ने प्रतिमा में बनी गाय को पवित्रा नाम से सम्बोधित किया और बछड़े को गौरा नाम दिया। इन कलाकृत्रियों को बनाने वाले कारीगरों को स्मृति चिह्न देकर सम्मानित भी किया। इस अवसर पर सांसद इलाहाबाद प्रो. रीता बहुगुणा जोशी सहित अन्य लोग उपस्थित रहे।

इसके उपरांत राज्यपाल इलाहाबाद संग्रहालय पहुंच कर आनंद कुमार स्वामी प्रर्दशनी कक्ष में लगी 'प्रयागराज परिक्षेत्र में गंगा की सांस्कृतिक विरासत' शीर्षक प्रदर्शनी का शुभारम्भ किया। इलाहाबाद संग्रहालय निदेशक डॉ. सुनील गुप्ता ने राज्यपाल और अपर मुख्य सचिव महेश कुमार गुप्ता को प्रर्दशनी का भ्रमण कराया। तत्पश्चात् संग्रहालय में प्रस्तावित आजाद वीथिका की प्रगति निरीक्षण एन.रामदास अय्यर एन.सी.एस.एम दिल्ली ने कराया।

इसके पश्चात नवनिर्मित सीसीटीवी कन्ट्रोल रूम, उच्चीकृत पावर सब स्टेशन एवं फायर अलार्म सिस्टम का लोकार्पण के बाद आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए राज्यपाल ने प्रस्तावित आजाद वीथिका के निर्माण की अंतिम स्वीकृति प्रदान करते हुए संग्रहालय परिसर में बाहर व भीतर बच्चों के लिए क्रियात्मक गतिविधियों से युक्त पार्क जिसमें रॉक पेंटिंग व प्राचीन लिपियों के सीखने व आत्मनिर्भर भारत के तहत बनने वाले खिलौनों को लगाने को निर्देशित किया। साथ ही संग्रहालय की वीथिकाओं में डिजिटल कैप्शन लगाने का सुझाव दिया और संग्रहालय को विश्वविद्यालयों से शोध को बढ़ावा देने के लिए सहयोग का सुझाव दिया।

बैठक में अपर मुख्य सचिव महेश कुमार गुप्ता, निदेशक डॉ. सुनील गुप्ता, डीएम भानुचंद्र गोस्वामी, वित्त एवं लेखाधिकारी राघवेन्द्र सिंह, एन.रामदास अय्यर, डॉ. क्षेत्रपाल उपसंग्रहपाल डॉ. ओंकार ए वानखेड़े व सीपीडब्लूडी के प्रतिनिधि उपस्थित रहे।

Next Story
Share it