Top
Action India

जिला कांग्रेस ने फूंका सरकार का पुतला

जिला कांग्रेस ने फूंका सरकार का पुतला
X

बागेश्वर । Action India News

कांग्रेस ने विधायक नेगी प्रकरण पर सरकार को घेरा और सरकार का पुतला दहन किया। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने विधायक प्रकरण की निष्पक्ष जांच करने और पीड़ित महिला को न्याय दिलाने के साथ ही प्रवासियों को बेहतर रोजगार देने की मांग की। एक अन्य प्रदर्शन में युवा कांग्रेस ने मनरेगा के कार्य दिवस बढ़ाने की मांग की है।

शनिवार को जिला कांग्रेस कमेटी ने एसबीआई तिराहे पर प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुये प्रदर्शन किया और राज्य सरकार का पुतला दहन भी किय। कार्यकर्ताओं ने कहा कि महिला ने विधायक पर दुष्कर्म का आरोप लगाया है, जिससे देवभूमि की राजनीति भी कलंकित हो गई है। उन्होंने कहा कि सबकुछ जानते हुए भी सरकार मामले को लटकाने में तुली है।

महिला की विधायक के डीएनए की जांच की मांग को भी सरकारी दबाव में टाला जा रहा है। उन्होंने कहा कि बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का नारा बुलंद करने वाली सरकार अब एक बेटी के न्याय मांगने पर आरोपित विधायक को बचाने का प्रयास कर रही है।

उन्होंने मुख्यमंत्री से मामले की निष्पक्ष जांच के लिए विधायक का डीएनए टेस्ट करवाने को कहा, ताकि दूध का दूध और पानी का पानी हो सके। कांग्रेस कार्यकर्ताओं को जल्द महिला को न्याय न मिलने पर आंदोलन करने की भी चेतावनी दी।

इस मौके पर जिलाध्यक्ष लोकमणि पाठक, पूर्व विधायक ललित फस्र्वाण, पूर्व जिपं अध्यक्ष हरीश ऐठानी, प्रदेश महामंत्री बालकृष्ण, महिला जिलाध्यक्ष गीता रावल, नगर अध्यक्ष धीरज कोरंगा, राजेंद्र सिंह टंगड़िया, कवि जोशी, धीरज कुमार, भीम कुमार, बसंत कुमार, ईश्वर पांडेय, भगवत रावल, अंकुर उपाध्याय सहित तमाम कार्यकर्ता मौजूद रहे।

शनिवार को ही युवा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने विकास खंड कार्यालय पर प्रदर्शन किया। कार्यकर्ताओं ने सरकार से प्रवासियों की सुध लेने और मनरेगा के तहत दो सौ दिन का रोजगार देने की मांग की। युवा कांग्रेस ने अपनी मांगों को लेकर बीडीओ को एक ज्ञापन भी दिया।

इस मौके पर जिलाध्यक्ष दर्शन कठायत ने कहा कि कोरोना महामारी के कारण हजारों लोेगों को रोजगार छिन गया है। करीब 50 हजार लोग महानगरों से अपने घरों को लौट आए हैं। अब उन्हें रोजगार की समस्या पैदा हो गई है।

उन्होंने कहा कि सरकार मनरेगा के तहत 100 दिन का रोजगार दे रही है, लेकिन यह परिवार पालने के लिए नाकाफी है। इससे ग्रामीणों का जीवन स्तर सुधारने में किसी तरह की मदद नहीं मिल रही है। उन्होंने खंड विकास अधिकारी को दिए ज्ञापन में कार्यदिवस की संख्या बढ़ाकर दोगुनी करने की मांग की। ताकि प्रवासी लोगों की आर्थिक हालत में सुधार हो सके।

Next Story
Share it