Top
Action India

बागेश्वर के जिला कार्यालय में फूटा लोगों का आक्रोश, विभिन्न मांगों को लेकर प्रदर्शन

बागेश्वर के जिला कार्यालय में फूटा लोगों का आक्रोश, विभिन्न मांगों को लेकर प्रदर्शन
X

  • बागेश्वर के जिला कार्यालय में उमड़ा लोगों का आक्रोश
  • जलभराव, पेयजल संकट और मुआवजे की मांग को प्रदर्शन

बागेश्वर । Action India News

जिला कार्यालय में गुरुवार के दिन लोगों का आक्रोश फूटा और मंडलसेरा में जलभराव की समस्या, डिनौला गांव में पेयजल संकट और आपदा से हुए नुकसान का मुआवजा दिलाने की मांग को लेकर अलग-अलग प्रदर्शन हुए। ग्रामीणों ने जिलाधिकारी को ज्ञापन दिए और जल्द समस्याओं का निदान करने की मांग की।

मंडलसेरा में जलभराव को लेकर महिलाओं का प्रदर्शन

पिछले दिनों हुई बारिश ने भी मंडलसेरा और जीतनगर में व्यापक नुकसान पहुंचाया। लोगों के घरों में पानी व मलबा भर गया। इससे घर के भीतर रखा सामान खराब हो गया। सालों से समस्या को झेल रहे लोगों के जब सब्र का बांध टूटा तो वह डीएम कार्यालय धमक गए। नाराज महिलाओं ने जमकर नारेबाजी की।

उन्होंने कहा कि कुंथी गधेरे का रुख आबादी की ओर मोड़ा गया है, जिससे पूरा क्षेत्र खतरे की जद में आ गया है। बारिश होते ही पानी लोगों के घरों में घुस रहा है। उसके साथ मलबा, पत्थर और सांप-कीड़े भी घर के अंदर पहुंच रहे हैं।

प्रदर्शनकारियों ने कहा कि बरसाती नाले को रोकने के लिए उसे दो भागों में बांटा जाना चाहिए, ताकि गधेरे का बहाव बंट जाए ओर लोगों पर मंडरा रहा खतरा भी कम हो सके। उन्होंने जिलाधिकारी को ज्ञापन देकर जल्द गधेरे की निकासी का स्थाई हल निकालने की मांग की। समस्या का जल्द समाधान नहीं होने पर आंदोलन करने की भी चेतावनी दी।

इस मौके पर सभासद रूपा देवी, दुर्गा मेहता, ममता मलड़ा, सुनम मलड़ा, दिया मलड़ा, मुन्नी मेहता, नीमा मेहता, राधा कालाकोटी, दिव्या देवी, संगीता कालाकोटी, उमा चौबे आदि मौजूद रहे।

डिनौला गांव में पेयजल संकट को लेकर प्रदर्शन

खरही पट्टी के गांव डिनौला के ग्रामीणों ने कलक्ट्रेट परिसर में जोरदार नारेबाजी की। उन्होंने बताया कि क्षेत्र के तमाम गांवों में नियमित पानी आ रहा है लेकिन उनके गांव में महीने में केवल चार या पांच दिन ही पानी दिया जा रहा है।

उसमें भी दिन में केवल आधे घंटे ही पानी दिया जा रहा है। पेयजल किल्लत से ग्रामीणों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। अपने पीने और मवेशियों के लिए पानी का इंतजाम करने के लिए एक से दो किमी दूर जाना मजबूरी बन गई है।

उन्होंने बताया कि कई माह से समस्या बनी हुई है। विभाग को लिखित और मौखिक जानकारी देने के बाद भी कोई समाधान नहीं निकल रहा। उन्होंने जिलाधिकारी से जल्द पेयजल संकट से निजात दिलाने की मांग की। इस मौके पर मनोज लोहनी, गणेश तिवारी, नारायण नेगी, नवीन कांडपाल, केवलानंद कांडपाल, मोहन चंद्र कांडपाल, संजय कांडपाल आदि मौजूद रहे।

कांग्रेस कार्यकर्ताओं का आपदा पीड़ितों को मुआवजा दिलाने के लिए प्रदर्शन

बारिश से हुए नुकसान का प्रभावितों को मुआवजा दिलाने की मांग को लेकर कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं ने ग्रामीणों को साथ लेकर कलक्ट्रेट में प्रदर्शन किया। कांग्रेस के प्रदेश महामंत्री बालकृष्ण के नेतृत्व में कई गांवों के लोग जुटे।

गरुड़ तहसील के घेटी निवसासी गोविंद कांडपाल ने बताया कि उसका बेनाप भूमि में बना मकान धराशायी हो गया है, जिसके बाद से परिवार बेघर है। उन्होंने घर बनाने के लिए जमीन आवंटित करने की मांग की।

धैना निवासी मोहन राम ने बताया कि प्रधानमंत्री सड़क योजना से बन रही सड़क की दीवार टूटने से उनका मकान क्षतिग्रस्त हो गया है। उन्होंने नया घर दिलाने की मांग की। लखनी गांव के रमेश राम ने बताया कि रोड की सुरक्षा दीवार टूटने से मकान में दरार पड़ गई है। उन्होंने मरम्मत के लिए मुआवजा दिलाने की मांग की।

कांग्रेस के प्रदेश महासचिव व अन्य पदाधिकारियों ने जिले में बारिश से हुए नुकसान का संज्ञान लेने और प्रभावित लोगों को जल्द मुआवजा दिलाने की मांग की। इस मौके पर बहादुर सिह बिष्ट, महेश पंत, ईश्वर पांडेय सहित आपदा प्रभावित ग्रामीण मौजूद रहे।

Next Story
Share it