Top
Action India

गंगा का जलस्तर बढ़ने से बढ़ा बाढ़ का खतरा, प्रशासन सतर्क

गंगा का जलस्तर बढ़ने से बढ़ा बाढ़ का खतरा, प्रशासन सतर्क
X

हरिद्वार । Action India News

पहाड़ों पर लगातार हो रही बारिश से नदियों का जलस्तर भी बढ़ रहा है। गंगा नदी भी उफान पर है। गंगा का पानी 293 मीटर चेतावनी बिन्दु को पार कर गया है। नदी से खतरे की आशंका को देखते हुए लक्सर तहसीलदार सुशीला कोठियाल ने बालावाली नीलधारा गंगा पर बाढ़ चौकियों का निरीक्षण किया।

आसपास के ग्रामीणों को अलर्ट रहने को कहा है।एक सप्ताह से पहाड़ी जनपदों के साथ ही हरिद्वार में भी कई बार तेज बारिश हो चुकी है। मंगलवार को भी जलस्तर में अचानक तेजी आई और जलस्तर खतरे के निशान तक पहुंच गया। गंगा और सोलानी नदी में पानी बढ़ने की सूचना पर तहसील प्रशासन सतर्क हो गया है।

तहसीलदार सुशीला कोठियाल ने बताया कि गंगा में खतरे का लेबल 294 मीटर पर है। अगर ऐसे ही पहाड़ों पर बारिश होती रही तो शीघ्र ही गंगा का जलस्तर खतरे के निशान को पार करके बहने लगेगा। आसपास बसे सभी संवेदनशील गांवों के हल्का लेखपाल, पंचायत सचिव और आंगनवाड़ी कार्यकर्ता आदि सभी को सतर्क कर दिया गया है।

हर दो घंटे पर पानी के स्तर की जानकारी ली जा रही है। ग्राम प्रधान और अन्य जनप्रतिनिधियों से भी सावधान रहने को कहा गया है। उन्होंने बताया कि प्रशासन हर स्थिति से निपटने को तैयार है। गंगा के निकटवर्ती गांव जैनपुर, मुबारकपुर, डोसनी, कुआं खेड़ा, मथाना, हस्त मौली, सिकंदरपुर, कलशिया, गिद्दा वाली, बालावाली, गंगदासपुर, पंडित पुरी, महाराजपुर कल, महाराजपुर खुर्द, शेरपुर बेला, नाई वाला, मंडाबेला और दल्ला वाला आदि गांवों में अलर्ट रहने के लिए कहा गया है। साथ ही सभी शासन-प्रशासन स्तर के कर्मचारियों को 24 घंटे सतर्क रहने के आदेश दिए गए हैं।

Next Story
Share it