Action India
उत्तराखंड

जनपद हरिद्वार में भाजपा के टिकट के लिए मारामारी

जनपद हरिद्वार में भाजपा के टिकट के लिए मारामारी
X

हरिद्वार। एक्शन इंडिया न्यूज़

उत्तराखंड में चुनाव की घोषणा होते ही जनपद हरिद्वार की कई सीटों पर सीटिंग भाजपा विधायकों के होने के बावजूद उन्हें विधानसभाओं में भाजपा के टिकट चाहने वाले कार्यकर्ताओं से मुकाबला करना पड़ रहा है। कई विधानसभाओं में टिकट मांगने वालों की बाढ़ सी आ गई है।

ऐसे में उत्तराखंड नेतृत्व की मुश्किल बढ़ गई हैं। वही पार्टी में भी बगावत की स्थिति पैदा हो गई है। सबसे ज्यादा खराब स्थिति झबरेड़ा विधानसभा की है। जहां पर सिटिंग एमएलए देशराज कर्णवाल का टिकट कटवाने के लिए भाजपा के ही कई नेता जुगाड़ में लगे हुए हैं। यही स्थिति कलियर विधानसभा में भी है और लक्सर में भी हालात सिटिंग विधायक संजय गुप्ता के खिलाफ ही है। ऐसी ही स्थिति खानपुर विधानसभा में भी है। जहां कुंवर प्रणव चैंपियन के खिलाफ पत्रकार उमेश शर्मा ताल ठोक रहे हैं।

भाजपा ओबीसी मोर्चा के जिला अध्यक्ष प्रदीप पाल सिंह भी टिकट की दावेदारी कर रहे हैं। जबकि सुनने में यह आ रहा है कि हाईकमान इस बार खानपुर विधानसभा से देवयानी सिंह को अपना प्रत्याशी बनाएगी, जो कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन की पत्नी और जिला पंचायत सदस्य हैं। वहीं झबरेड़ा विधानसभा से सिटिंग एमएलए देशराज कर्णवाल की पत्नी वैजयंती माला को टिकट मिलने की संभावना है। इससे भाजपा एक तीर से कई शिकार करेगी। जहां वह सिटिंग एमएलए के विकल्प के रूप में उनकी पत्नियों को टिकट देगी वहीं महिला सशक्तिकरण को बल देते हुए जनपद हरिद्वार की 2 सीटों से महिला को टिकट देकर संतुलन भी कायम करेगी। मंगलौर विधानसभा में कांग्रेस से आए सुशील राठी टिकट लेने की कोशिश में हैं। उन्होंने दिल्ली में डेरा डाल दिया है और पूर्व केंद्रीय मंत्री रहे वीरेंद्र सिंह चौधरी से अपने टिकट के लिए जोर लगवा रहे हैं। दूसरी ओर डॉ. प्रदीप कुमार जिनकी संघ में पैठ है और स्वामी यतीश्वरानंद को दो चुनाव लड़ाने का अनुभव रखते हैं, वह टिकट के लिए सिफारिश करवा रहे हैं।

वैसे अपने टिकट के लिए हारे हुए प्रत्याशी ऋषि पाल बालियान, डॉ मधु सिंह, दिनेश पंवार भी अश्वस्त हैं। ऐसी ही स्थिती रुड़की विधानसभा से भी है। जहां पर सिटिंग एमएलए प्रदीप बत्रा के खिलाफ उत्तराखंड ओबीसी आयोग की अध्यक्ष डॉ कल्पना सैनी अपना दावा बड़ी मजबूती से पेश कर रही हैं। उनका कहना है कि रुड़की विधानसभा से कभी भी महिलाओं को टिकट नहीं मिला है और वे राजनीतिक परिवार से संबंध रखती हैं। बरसों से भाजपा के लिए काम कर रही हैं। सिटिंग एमएलए प्रदीप बत्रा टिकट न मिलने की स्थिति में आप में जाने के लिए तैयार हैं।

भगवानपुर विधानसभा में सुबोध राकेश के बसपा में जाने के बाद पार्टी की स्थिति दयनीय हो गई है। वहां कांग्रेस से आए मास्टर सतपाल अपनी दावेदारी पेश कर रहे हैं तो कई और लोग भी लाइन में है। लक्सर विधानसभा में सिटिंग एमएलए संजय गुप्ता को नगर पालिका अध्यक्ष अमरीष गर्ग, पूर्व भाजपा ओबीसी मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष श्यामवीर सैनी, संतोष कश्यप भी टक्कर दे रही हैं। ज्वालापुर विधानसभा में भी हवा सिटिंग एमएलए सुरेश राठौड़ के खिलाफ बह रही है, लेकिन भाजपा प्रदेश प्रभारी दुष्यंत गौतम उनका टिकट कटने से बचवा सकते हैं। ऐसी स्थिति में हरिद्वार ग्रामीण विधानसभा को छोड़कर सभी सीटों पर सिटिंग एमएलए को 5 से 7 भाजपा के कार्यकर्ता और पदाधिकारी टक्कर दे रहे हैं। रानीपुर विधानसभा में दो बार के विधायक आदेश चौहान को पूर्व मंडल अध्यक्ष देवकीनंदन पुरोहित और हरिद्वार नगर निगम में पार्षद लोकेश पाल टक्कर दे रहे हैं। ऐसे में टिकट किसका होगा यह तो समय ही बताएगा।

Next Story
Share it