Action India
उत्तराखंड

सनातन धर्म रक्षा समिति ने धर्म संसद के संतो पर मुकदमा की निंदा की

सनातन धर्म रक्षा समिति ने धर्म संसद के संतो पर मुकदमा की निंदा की
X

ऋषिकेश। एक्शन इंडिया न्यूज़

षडदर्शन साधु समाज अखिल भारतीय सनातन धर्म रक्षा समिति ने धर्म संसद के संतों पर मुकदमा दर्ज करने की निंदा की। साथ ही समिति की प्रांतीय स्तर पर गठित कार्यकारिणी को सक्रिय किये जाने और देशभर में आयोजित धर्म संसद के विरोध में राज्य सरकारों द्वारा.दर्ज किए जा रहे मुकदमों को लेकर वर्चुअल माध्यम से मंथन किया ।

समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष महंत गोपाल गिरी की अध्यक्षता में हुई बैठक में उत्तराखंड के प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र गिरी ने राष्ट्रीय और प्रांतीय कार्यकारी के विस्तार को लेकर चर्चा में कहा कि सनातन धर्म को बचाने के लिए देशभर में धर्म संसदों के विरुद्ध राज्य सरकारों द्वारा तुष्टिकरण की नीति के चलते संतों पर विभिन्न आरोपों में मुकदमे दर्ज किए जा रहे हैं,जिसकी समिति घोर निंदा करती है।

इसमें कहा गया कि देश में अधिकांश सरकारों को बनाने में संतों ने अपना खून पसीना बहाया है, लेकिन अब कुछ सरकारें तुष्टीकरण की नीति के चलते संतों के विरोध में खड़ी हो गई हैं। वह संतों के विरोध में मुकदमे दर्ज उनका उत्पीड़न कर रही हैं। इसके विरोध में देशभर के सभी संतों को एक छतरी के नीचे लाकर ऐसी सरकार का विरोध किए जाने के लिए अपने-अपने राज्यों में मुख्यमंत्री और राज्यपाल के अलावा प्रधानमंत्री ,राष्ट्रपति को ज्ञापन दिए जाने के लिए दिशा-निर्देशित किये जाने की बात भी कही गयी। इसी के साथ देश के सभी राज्यों में निष्क्रिय कार्यकारिणी को भंग कर पुनर्गठन किए जाने का प्रस्ताव भी पारित किया गया।

बैठक में उत्तराखंड राज्य के महामंत्री कपिल मुनि ,स्वामी परीक्षित गिरी, जम्मू राज्य के महंत, आकाश गिरी, महंत यशपाल गिरी, महंत ओम गिरी उधमपुर, होशियारपुर के महंत जोगेंद्र गिरी, राजस्थान के महंत चेतनानन्दनंद गिरी, हरियाणा के महंत गीतानंद गिरि, पश्चिमी बंगाल के महंत शिवानंद गिरी, महाराष्ट्र के महंत रामेश्वर गिरि, मध्य प्रदेश महंत कैलाश पुरी सहित अन्य राज्यों के पदाधिकारी भी मौजूद थे।

Next Story
Share it