Top
Action India

उत्तराखंड विधानसभा में कोरोना कंट्रोल रूम स्थापित

उत्तराखंड विधानसभा में कोरोना कंट्रोल रूम स्थापित
X

देहरादून । एएनएन (Action News Network)

कोरोना महामारी से निपटने के लिए किए जा रहे उपायों के क्रम में आज उत्तराखंड विधानसभा परिसर में भी कंट्रोल रूम की शुरुआत कर दी गई। मंगलवार को देश के सभी राज्यों के पीठासीन अधिकारियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से लोकसभा अध्यक्ष ने कंट्रोल रूम स्थापित किए जाने की बात कही थी।

विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल के निर्देशानुसार उत्तराखंड विधानसभा सचिवालय द्वारा वैश्विक महामारी कोरोना का मुकाबला करने के लिए तथा लॉकडाउन के दौरान कंट्रोल रूम स्थापित कर दिया गया है। देहरादून रेड जोन में होने पर कंट्रोल रूम में अधिकारियों के वर्क फ्रॉम होम के अंतर्गत संयुक्त सचिव मदन सिंह कुंजवाल, उप सचिव चंद्रमोहन गोस्वामी एवं सुरक्षा अधिकारी प्रदीप गुणवंत की ड्यूटी लगाई गई है।

कंट्रोल रूम के तीनों अधिकारी सुबह 8 बजे से रात के 8 बजे तक 4-4 घंटे शिफ्ट वॉइज कार्य करेंगे। यह सभी अधिकारी सभी विधानसभा सदस्यों से संपर्क स्थापित कर उनके क्षेत्र से कोरोना से संबंधित सूचनाओं को प्राप्त कर आगे की कार्रवाई के लिए शासन को प्रेषित करेंगे। उत्तराखंड विधानसभा में स्थापित कंट्रोल रूम अन्य राज्यों की विधानसभाओं एवं लोकसभा के कंट्रोल रूम से भी समन्वय स्थापित करेगा। विधानसभा सचिवालय ने इस कंट्रोल रूम के संबंध में लोकसभा सचिवालय, उत्तराखंड शासन एवं स्वास्थ्य विभाग सहित सभी आवश्यक विभागों को सूचना दे दी गई है।

इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष अग्रवाल ने कहा है कि कोरोना संक्रमण के संकट के समय में राज्य की विधायिकाओं द्वारा किस प्रकार से अपना योगदान दिया जाये, इसी विचार के माध्यम से सभी राज्यों में कंट्रोल रूम स्थापित करने की बात लोकसभा अध्यक्ष ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कही गई थी। उन्होंने बताया कि विधानसभा में कंट्रोल रूम स्थापित करने का उद्देश्य सरकार एवं शासन को सहयोग देना है। कंट्रोल रूम के माध्यम से प्रत्येक विधानसभा सदस्य कोरोना संबंधी सूचना एवं सुझाव या जानकारी दे सकता है। विधानसभा क्षेत्रों से प्राप्त कोरोना से संबंधित सूचनाओं को कार्रवाई के लिए शासन को प्रेषित किया जाएगा।

अग्रवाल ने कहा कि लोकसभा सचिवालय में भी कंट्रोल रूम बनाया गया है। लोकसभा द्वारा भी इस संबंध सभी राज्यों की विधानसभाओं को कार्य सीमा के लिए गाइड लाइन प्राप्त होनी है। जैसे ही लोकसभा द्वारा गाइड लाइन प्राप्त होगी, कंट्रोल रूम द्वारा उसी दिशा निर्देश के अनुसार लोकसभा एवं सभी राज्यों के साथ आपसी सामंजस्य बनाकर काम किया जाएगा।

Next Story
Share it