Action India
अन्य राज्य

डामर प्लांट के जहरीले धुएं से ग्रामीण परेशान

डामर प्लांट के जहरीले धुएं से ग्रामीण परेशान
X

कोंडागांव । एएनएन (Action News Network)

जिला मुख्यालय से 07 किमी दूर ग्राम मसोरा में बीच बस्ती में स्थापित किए गए डामर प्लांट से स्थानीय ग्रामीणों की परेशानी बढ़ गई है। ग्राम पंचायत से अनुमति के बगैर संचालित किए जा रहे डामर प्लांट से निकलने वाला जहरीला धुंआ लोगों के लिए जानलेवा साबित हो रहा है। ठंड और गर्मी के मौसम में प्लांट के काले धुएं से आसपास काली धुंध बन रही है। इससे लोगों को सांस लेने में काफी दिक्कत हो रही है।

प्लांट से उठ रहे धुएं के चलते डस्ट आकर पानी व खाना, बर्तन व कपड़ो पर जमने लगा है। वहीं गांव वालों ने कई बार प्लांट मैनेजर से इसकी शिकायत भी की लेकिन सड़क निर्माण का हवाला देकर निर्माण में लगी कंपनी के द्वारा पंचायत के शिकायत को अनसुना कर मनमानी कर रहे हैं। डामर प्लांट को लेकर ग्रामीणों के द्वारा शिकायत की जा चुकी है। इसके बाद भी कोई ठोस कार्रवाई जिला प्रशासन ने नहीं किया है।

बताया जा रहा है कि प्लांट सुबह 3 बजे से प्रारंभ हो जाता है और रात तक यहां पर काम चलता रहता है। जिला मुख्यालय से मात्र 7 किमी दूर ग्राम मसोरा से गिरोला रोड पर स्थापित डामर प्लांट कोलेकर ग्राम पंचायत मसोरा में हंगामा मचा हुआ है। मसोरा के ग्रामीण प्लांट सेफैल रहे ध्वनि एवं वायु प्रदूषण का हवाला देते हुए प्लांट को बंद करने की मांग कर रहे है। वहीं ग्राम पंचायत सरपंच दिनेश मरकाम ने बताया है कि डामर प्लांट के चलते उनके गांव वालों का जीवन खतरे में पड़ गया है। ग्रामीणों ने अतिशीघ्र उक्त डामर प्लांट को बंद कराने की मांग रखी है।

गांव वालों की शिकायत पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई, इससे ग्रामीणों में आक्रोश है। मासोरा ग्राम पंचायत के सरपंच दिनेश मरकाम ने बताया कि गांव में डामर प्लांट लगाया गया है, जिसके लिए ग्राम पंचायत से कभी भी एनओसी नहीं लिया गया है और गांव में डामर प्लांट लगाने की पंचायत कभी परमीशन नहीं देगा। ग्रामीणों का कहना है कि डामर प्लांट से निकलने वाले जहरीले धुंए से गांव के लोगों की सेहत में काफी प्रभाव पड़ है वहीं लोग बीमार भी हो रहे है। गांव की जनसंख्या करीब 7 हजार के आसपास है।

Next Story
Share it