Top
Action India

243 सूखे तालाबों को भरने बांध से छोड़ा गया पानी, लोगों को मिली राहत

243 सूखे तालाबों को भरने बांध से छोड़ा गया पानी, लोगों को मिली राहत
X

धमतरी । एएनएन (Action News Network)

गर्मी के सीजन में तालाबों का सूख जाना आम बात है। हर साल तापमान में हो रही बढ़ोत्तरी से अब तो सालभर पानी से लबालब रहने वाले तालाब भी गर्मी आते ही सूखने लगे हैं। ऐसे में ग्रामीणों के समक्ष निस्तारी की समस्या हाे जाती है। लोगों को राहत पहुंचाने के उद्देश्य से इस बार जल संसाधन विभाग द्वारा नहर से पानी छोड़ा जा रहा है।

गर्मी की आहट होते ही तेजी के साथ तालाबों का जलस्तर गिरने लगता है। सूखते तालाबों से उपजी निस्तारी समस्या अब जल्द दूर हो जाएगी। अप्रैल के महीने में ही सूख चुके ऐसे 243 तालाबों को भरने के लिए महानदी मुख्य नहर से पांच सौ क्यूसेक निस्तारी पानी छोड़ दिया गया। पखवाड़ेभर के अंदर ही सभी सूखे तालाबों को भर देने का दावा किया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि इस साल अप्रैल के महीने में भीषण गर्मी पड़ रही है। दिन का तापमान में करीब 35 से 40 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच रहा है। भीषण गर्मी के चलते गांवों में निस्तारी तालाब भी बड़ी तेजी से सूखने लगे हैं।

अप्रैल के पहले सप्ताह की अवधि में जिले भर में ऐसे 243 तालाब सूख गए हैं, जिससे गांवों में निस्तारी समस्या गहरा गई। ग्रमीणों को हो रही परेशानी को दूर करने के उद्देश्य से कलेक्टर के आदेश पर जल संसाधन विभाग ने निस्तारी के लिए 500 क्यूसेक पानी महानदी मुख्य नहर में छोड़ दिया है। यह पानी सिंचाई के लिए छोड़े गए 1546 क्यूसेक से अतिरिक्त हैं। इससे धमतरी से लेकर कोंड़ापार नहर तक 49 किलो मीटर के दायरे में आने वाले वितरक शाखाओं के गांवों को लाभ मिलेगा। वितरक शाखा का कुलापा खोलकर छोटी नालियों के जरिए तालाबों को भरा जाएगा। जल संसाधन विभाग के मुताबिक 243 सूखे तालाबों को निस्तारी के लिए भरा जाएगा। इसमें ग्राम कंडेल, आमदी, पलारी, अरकार, भखारा, सेमरा, डाही, छाती, कुरूद, सिवनीकला, सिरी, बिरेझर, जीजामगांव और कचना क्षेत्र में वितरक शाखा क्रमांक एक से 14 तक आने वाले गांवों के तालाबों को भरा जाएगा।

Next Story
Share it