Top
Action India

ममता का दावा : नहीं मिला था ईस्ट-वेस्ट मेट्रो के उद्घाटन का न्योता

ममता का दावा : नहीं मिला था ईस्ट-वेस्ट मेट्रो के उद्घाटन का न्योता
X

कोलकाता। एएनएन (Action News Network)

गंगा नदी के नीचे से गुजरने वाली भारत की पहली ऐतिहासिक ईस्ट-वेस्ट मेट्रो के पहले चरण का उद्घाटन गुरुवार को हो गया है। इसमें मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को आमंत्रित नहीं करने को लेकर विवाद मचा था जिस पर मेट्रो ने सफाई दिया था कि मुख्यमंत्री को आमंत्रित किया गया था लेकिन शुक्रवार को मुख्यमंत्री ने राज्य विधानसभा में दावा किया है कि उन्हें आमंत्रण नहीं मिला था। उन्होंने कहा कि जब मैं रेल मंत्री थी तब पश्चिम बंगाल के लिए बड़ी संख्या में रेलवे परियोजनाओं को अनुमोदित की थी।

उन्हें हरी झंडी देने में कई अड़चनों का सामना करना पड़ा था। कई बार आंख से आंसू तक निकल गए थे। लेकिन एक छोटे से रूट को चालू किया गया और मुझे आमंत्रित नहीं किया गया। यहां तक कि उद्घाटन से पहले मुझे जानकारी तक नहीं दी गई। फोटो खिंचवाने की जरूरत नहीं थी लेकिन कम से कम मुझे आमंत्रित किया जा सकता था। ऐसा नहीं किया गया है। मुझे काफी ठेस पहुंचा है।

उल्लेखनीय है कि उद्घाटन करने हेतु केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल आए थे। पर्यावरण राज्यमंत्री और आसनसोल से भाजपा सांसद बाबुल सुप्रियो अतिथि के तौर पर मौजूद थे। क्षेत्र के सांसद विधायक और विधाननगर निगम की मेयर को आमंत्रित किया गया था। लेकिन दावा किया गया था कि इसमें मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को आमंत्रित नहीं किया गया है। इसे लेकर रेलवे के शिष्टाचार पर सवाल खड़ा किया गया था।

इसके बाद मेट्रो रेल की ओर से जारी बयान में बताया गया था कि बुधवार को कोलकाता मेट्रो रेल कारपोरेशन की ओर से अधिकारी मुख्यमंत्री को निमंत्रण देने के लिए राज्य सचिवालय नवान्न गए थे। लेकिन कोई जवाब नहीं मिला था। बावजूद इसके मेट्रो के अधिकारी सीधे सीएम को आमंत्रित करने पहुंचे लेकिन स्वीकार नहीं किया गया। अब ममता ने दावा किया है कि उन्हें आमंत्रण नहीं किया गया था।

निर्मला सीतारमण के दावे पर भी खड़ा किया सवाल

इस दौरान मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के दावे पर भी सवाल खड़ा किया। ममता ने कहा कि पहले निर्मला सीतारमण ने कहा था कि वह पांच चाय बागानों को गोद लेंगी। लोगों ने उन पर भरोसा किया था और भाजपा उम्मीदवारों को मतदान भी किया था लेकिन कोई काम नहीं हुआ।

चाय बागानों का अधिग्रहण करेगी ममता सरकार

सीएम ने घोषणा करते हुए कहा कि चाय बागान के श्रमिकों की बदहाली को देखते हुए वहां के चार ऐसे बागानों को चिन्हित किया गया है जो खस्ताहाल हो चुके हैं। सरकार उनका अधिग्रहण करेगी। वहां श्रमिकों के लिए आवास बनाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार बंगाल को हर जगह वंचित करती है। सीएम ने दोहराया कि वह बंगाल में कभी भी नागरिकता अधिनियम अथवा एनआरसी को लागू नहीं करने देंगी। उन्होंने नागरिकता अधिनियम को वापस लेने की मांग दोहराते हुए कहा कि बंगाल में भाजपा की कोई भी रणनीति काम नहीं करेगी। यह बिहार या उत्तर प्रदेश नहीं है।

माकपा का वोट भाजपा को मिला

सीएम के संबोधन से पहले माकपा विधायक दल के नेता सुजन चक्रवर्ती ने दावा किया था कि तृणमूल का वोट भाजपा की झोली में चला गया था। इस संबंध में मुख्यमंत्री ने जवाब देते हुए कहा कि सुजन को बताना चाहिए कि जादवपुर में माकपा क्यों हारी? सच्चाई यह है कि माकपा ने अपना सारा वोट भाजपा को ट्रांसफर कर दिया। उन्होंने कांग्रेस को नसीहत देते हुए कहा कि वह माकपा के साथ ना रहे नहीं तो अस्तित्व खो देंगे।

Next Story
Share it