Action India
अन्य राज्य

आंधी-बारिश से थमी किसानों की सांसें, बहुत नुकसान

आंधी-बारिश से थमी किसानों की सांसें, बहुत नुकसान
X

मेरठ । एएनएन (Action News Network)

मौसम के बदलते मिजाज से किसानों की पेशानी पर बल पड़ गए हैं। शनिवार की आधी रात से चली आंधी और रविवार सुबह हुई बारिश से किसानों की सांसें थम गई हैं। बारिश के कारण गेहूं की फसल को बहुत नुकसान हो रहा है। किसानों ने सरकार से राहत पैकेज देने की मांग की है।

मई की शुरूआत में ही मौसम के बदलते मिजाज ने फिर से किसानों को परेशान करना शुरू कर दिया है। अभी खेतों में गेहूं की फसल कटाई के लिए खड़ी है। किसान तेजी से गेहूं की कटाई करने में जुटे हैं। शनिवार की आधी रात को मेरठ समेत कई जिलों में तेज आंधी के कारण किसानों का खेतों में पड़ा काफी भूसा उड़ गया। इसके बाद रविवार की सुबह हुई तेज बारिश से खेतों में पानी भर गया और कटी हुई गेहूं की फसल डूब गई। सरदार वल्लभभाई पटेल कृषि विवि मोदीपुरम के मौसम वैज्ञानिक डाॅ. यूपी शाही का कहना है कि मैदानी क्षेत्रों के मौसम में आया यह बदलाव सात मई तक जारी रहेगा।

इस दौरान चार और पांच मई को पश्चिमी उत्तर में तेज आंधी और बारिश होने की आशंका है। कैली गांव के किसान विनीत त्यागी का कहना है कि बारिश से किसानों की गेहूं की फसल को नुकसान हुआ है। किसान तेजी से फसल काटने में जुटे हैं, लेकिन मौसम बिगड़ने से हालात खराब हो रहे हैं। भटीपुरा गांव के किसान लोकेश चौधरी ने केंद्र व राज्य सरकार से किसानों को हुए नुकसान की भरपाई के लिए राहत पैकेज की मांग की है। भारतीय किसान आंदोलन के राष्ट्रीय संयोजक कुलदीप कुमार का कहना है कि बेमौसम बारिश, ओलावृष्टि और तेज आंधी से गेहूं की फसल के साथ-साथ आम की फसल को भी नुकसान पहुंचा है। किसानों की बिगड़ती हालत का सरकार को संज्ञान लेना चाहिए।

Next Story
Share it