Action India
अन्य राज्य

विधायक और सांसद ने मुंह मोड़ा तो पैदल और ट्रकों से लिफ्ट लेकर पहुंचे गांव

विधायक और सांसद ने मुंह मोड़ा तो पैदल और ट्रकों से लिफ्ट लेकर पहुंचे गांव
X

अनूपपुर । एएनएन (Action News Network)

कोरोना संक्रमण में देश में जारी लॉकडाउन और परदेशों में फंसे मजदूरों की घर वापसी की चाह में स्थानीय सांसद, विधायक और जनप्रतिनिधियों से मांगी गई सहायता नहीं मिल सकी। मुसीबत में फंसे मजदूर पैदल ही घर के लिए निकल पड़े। यहां तक सीमा में आने पर शासन और कंपनी से कोई मदद नहीं मिलने पर खुद के 3100 रुपये प्रत्येक मजदूर की दर से किराया चुकाया और अनूपपुर पहुंचे।

दमहेड़ी गांव निवासी भीम सिंह ने बुधवार को बताया कि वह 5 जनवरी को सूरत रोजगार के सिलसिले में गया था, जहां काम तो मिला, लेकिन दो माह बाद लॉकडाउन लग गया। इसके बाद साड़ी की कंपनी बंद होने पर उसने स्थानीय विधायक और सांसद सहित अन्य जनप्रतिनिधियों से यहां से ले जाने मदद मांगी। लेकिन सभी ने हाथ खड़े कर दिए। इसके बाद अन्य दस मजदूरों के साथ वह पैदल ही चल पड़ा। दो दिनों तक 40-45 किलोमीटर पैदल चलने के बाद ट्रक से लिफ्ट लेकर तो कभी पैदल फिर किसी अन्य गुजरती वाहन का सहारा लेकर आगे बढ़े।

भीम सिंह ने बताया कि रात को पेट्रोल पम्प या किसी घर के सामने सड़क पर सो जाया करते थे। किसी ने भोजन दिया तो खा लेते थे। सूरज में लॉकडाउन के कारण खाना पीना में काफी दिक्कतें आने लगी। राशन नहीं मिलता था, मिलता तो महंगा मिलता था। भीम सिंह अब परदेश जाकर काम करना नहीं चाहता, वह सरकार से चाहता है कि स्थानीय गांव क्षेत्र में ही काम मिल जाए। गांव के लोगों से सम्पर्क के लिए मोबाइल थी लेकिन पैसे के अभाव में रीचार्ज नहीं करा पाया। क्योंकि सूरत से निकलने के उपरांत बोर्डर पर बस के लिए कमाई की बची 3100 रुपये बस किराया के रूप में चुकाना पड़ा जिसके बाद वह आगे का सफर तय करते अनूपपुर पहुंचा है।

Next Story
Share it