Top
Action India

पानी बर्बाद किया तो भरना होगा जुर्माना

पानी बर्बाद किया तो भरना होगा जुर्माना
X

कौशाम्बी । एएनएन (Action News Network)

मंझनपुर नगर पंचायत ने पानी बर्बादी रोकने के लिए नई पहल शुरु की है। पानी जरूरत से ज्यादा बहाने वालों पर नगर पंचायत प्रशासन जुर्माना वसूल करेगा। नगर पंचायत ने इसको अमली जामा सबसे पहले अपने सरकारी नलों के लीकेज को बंद करना शुरू किया है। इस पहल को जमीनी स्तर पर लाने को इलाके में मुनादी कर दी है। नगर पंचायत के इस फैसले के बाद कस्बे के तमाम लोगो ने अपने नलों में टोटियां लगा ली हैं।

गौरतलब है कि मंझनपुर नगर पंचायत के लोगों की प्यास बुझाने के लिए चार नलकूप और दो पानी की टंकियों की व्यवस्था की गई है। जिससे नगर पंचायत के घरों में पानी की सप्लाई की जाती है। लेकिन नगर वासियों की लापरवाही के कारण इलाके के कई घरों में पानी नहीं पहुंच पाता है। लोग अक्सर जरुरत का पानी इस्तेमाल करने के बाद नल को खुला छोड़ देते हैं। जिस कारण पानी की किल्लत से जूझना पड़ता है। तमाम प्रयासों से तंग आये मंझनपुर नगर पंचायत प्रशासन ने लोगों की आदत सुधारने और पानी बर्बादी रोकने के लिए नल खुला छोड़ने वालां पर जुर्माना लगाने का फैसला किया है। इस बात की मुनादी भी करा दी है कि लोगो के घर या बाहर पानी बहता पाया गया तो बतौर जुर्माना सौ रुपये का आर्थिक दण्ड उनको देना होगा।

अध्यक्ष नगर पंचायत मंझनपुर महताब आलम ने बताया, नगर पंचायत में बैठक की गई है। जिसमें यह निर्णय लिया गया और सभी लोगों से राय मशविरा किया गया तो पाया गया कि पानी का वेस्टेज बहुत हो रहा है। पीने का पानी हमारे सामने एक बड़ी समस्या के रूप में है। नगर पंचायत सबसे पहले अपने इलाके में सरकारी नलों को ठीक करा रही है। कनेक्शन धारकों को चिन्हीकरण कराया जा रहा है। जो वेस्ट कर रहे है उनको नोटिस देने की तैयारी की जा रही है। पानी के वेस्ट को रोकने के लिए जुर्माने का भी प्रावधान किया जा रहा है।

अधिशाषी अधिकारी मंझनपुर सुनील सिंह ने बताया कि जो पानी की वेस्टेज हो रही है, वो कैसे रोका जाय। इस पर हम लोग रणनीति बना रहे हैं और जहां भी हमारे लीकेज है उसे बंद किया जा रहा है। जनता में जन जागरूकता फैलाई जाए कि पानी की वेस्टेज कैसे रोकी जाय। अगर वो फिर भी नहीं मान रहे हैं तो उनको नोटिस द्वारा रोका जाय। यदि उसके बाद भी नहीं माने तो कार्यवाही की जाय। जैसा कि चेयरमैन ने कहा है कि उनके खिलाफ नोटिस दी जाएगी।

क्या है भौगोलिक स्थिति

नगर पंचायत मंझनपुर के भौगोलिक दायरे में बारह वार्ड आते है। इन वार्डों को नगर पंचायत प्रशासन चार नलकूप और दो पानी की टंकियो से पानी की सप्लाई की जाती है। मंझनपुर नगर पंचायत की कुल आबादी 17 हजार से अधिक है, जिसमें पानी के कनेक्सन 5 हजार से अधिक है। नगर पंचायत के इस फैसले पर इलाके के सभी सभासदों ने खुल कर समर्थन किया है, साथ ही वह खुद भी जनता के बीच जा कर उनको जल संरक्षण के मायने समझा रहे है।

चर्चा में है, सार्थक पहल

गिरता भूगर्भ जल स्तर लगातार चिंता का विषय बना हुआ है। पानी की इसी कीमत को समझाने के लिए नगर पंचायत का फैसला इन दिनों खासा चर्चा में है। नगर पंचायत की अध्यक्ष ने अपने वार्ड के जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक कर प्रस्ताव पारित करते हुए पानी को बर्बाद करने वालों पर जुर्माना लगाने का फैसला किया है। नगर पंचायत के लोगों का कहना है कि पानी बर्बादी रोकने के लिए जो जुर्माना जनता से लिया जायेगा। वह भी जनता के विकास कार्य में ही खर्च किया जायेगा।

जनता की प्रतिक्रिया

मो.मोसिन बताते हैं, नगर पंचायत का फैसला सराहनीय है, लेकिन नगर पंचायत को पहले अपने स्टैंडपोस्ट और नलों से पानी के वेस्टेज को रोकना होगा। हम कोशिश करेंगे की पानी बेकार न हो। युवा तौसीफ बताते हैं, जुर्माना लगाने से लोग पानी के बर्बादी को रोकने में अपनी जिम्मेदारी समझेंगे। जो पहल अब शुरू हुयी है इससे आने वाली पीढ़ी को फायदा मिलेगा।

Next Story
Share it