Top
Action India

वैश्विक नेताओं का कोरोनावायरस के खिलाफ 8 अरब डॉलर की मदद का वादा

नई दिल्ली । एएनएन (Action News Network)

विश्व के नेताओं और संगठनों ने सोमवार को कोविड-19 के लिए एक संभावित टीका और उपचार के अनुसंधान, निर्माण और वितरण के लिए 8 अरब डॉलर की मदद का वादा किया। जबकि अमेरिका ने इस वैश्विक प्रयास में योगदान करने से इनकार कर दिया।आयोजकों में यूरोपीय संघ और गैर-यूरोपीय संघ के देश ब्रिटेन, नॉर्वे और सऊदी अरब शामिल थे। जापान, कनाडा, दक्षिण अफ्रीका और अन्य दर्जनों देशों के नेता इस वीडियो आयोजन में शामिल हुए। जबकि कोरोनावायरस के उत्पत्ति स्थल चीन के यूरोपीय संघ के राजदूत ने इसमें हिस्सेदारी की।

विश्व बैंक, बिल और मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन और धनी व्यक्तियों द्वारा किये जा रहे प्रयासों से धनराशि एकत्र करने का लक्ष्य है। जिससे दुनिया भर में कोरोनावायरस से निपटने के सामूहिक कार्यक्रम की शुरुआत की जा सके।यूरोपीय आयोग की प्रमुख उर्सुला वॉन डेर लेयन ने कहा, "कुछ ही घंटों में हमने वैक्सीन, परीक्षण और उपचार के लिए सामूहिक रूप से 7.4 अरब यूरो (8.1 अरब डॉलर) का वादा किया है। यह अभूतपूर्व वैश्विक सहयोग को शुरू करने में मदद करेगा।"

यूरोपीय संघ के अधिकारियों ने कहा कि यह स्पष्ट नहीं है कि नई फंडिंग क्या है, क्योंकि इसमें साल की शुरुआत में किए गए वादों को भी शामिल किया जा सकता है।वॉन डेर लेयेन ने कहा कि दानदाताओं में पॉप सिंगर मैडोना शामिल हैं, जिन्होंने 1 मिलियन यूरो देने का वादा किया है।

कोविड​​-19 की गंभीर बीमारी से उबर चुके ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसनने कहा कि एक टीका की खोज "हमारे जीवन का सबसे जरूरी साझा प्रयास" है, जो "हमारे सभी लोगों के लिए एक अभेद्य कवच" के रूप में होगा।यूरोपीय संघ के राजनयिकों ने कहा कि दुनिया में कोरोनावायरस के सबसे अधिक पुष्ट मामलों वाला अमेरिका इस प्रयास में हिस्सा नहीं ले रहा है। अमेरिकी प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह बताने से इनकार कर दिया कि अमेरिका इसमें हिस्सा क्यों नहीं ले रहा है।

अधिकारी ने टेलीफोन पर संवाददाताओं से कहा, “हम यूरोपीय संघ द्वारा इस प्रयास के संकल्प का समर्थन करते हैं। यह कई प्रयासों में से एक है जो चल रहा है और अमेरिका इसमें सबसे आगे है।“फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन ने कहा, "हम अपने अमेरिकी सहयोगियों के साथ कई चर्चाएं कर चुके हैं। मुझे विश्वास है कि अमेरिकी अंततः इस प्रयास के लिए प्रतिबद्ध होंगे, क्योंकि यह दुनिया के लिए आगे का रास्ता है।"

Next Story
Share it