राष्ट्रीय

छह साल के बच्चे के अपहरणकर्ता अभी भी फरार, केरल पुलिस की नींद हराम

तिरुवनंतपुरम
कोल्लम जिले के ओयूर में ग्रामीण भले ही अपहृत छह वर्षीय लड़की की सुरक्षित वापसी पर खुशी मना रहे हैं, लेकिन केरल पुलिस मामले में सफलता तक पहुंचने के लिए संघर्ष कर रही है।

उसके घर के पास से अपहरण करने के एक दिन बाद, अपहरणकर्ताओं ने- जिसमें एक महिला भी शामिल थी –  बच्ची को एक सार्वजनिक मैदान में छोड़ दिया। चूंकि गिरोह ने कभी मोबाइल फोन का इस्तेमाल नहीं किया, इसलिए पुलिस के लिए उन पर नज़र रखना कठिन हो गया है।

इसके अलावा, कोल्लम जिले और उसके आसपास लगाए गए एआई कैमरे भी कार या गिरोह का पता लगाने में विफल रहे हैं, हालाँकि माना जाता है कि वे स्वतंत्र रूप से घूम रहे थे, वैसे ही जैसे एक महिला ने अपहृत लड़की को सार्वजनिक मैदान में छोड़ दिया था। यह मैदान उस जगह करीब 25 किलोमीटर दूर है जहां से  शाम को उसका अपहरण कर लिया गया था।

दोपहर करीब 1.45 बजे एक महिला बच्ची के साथ ऑटो रिक्शा से मैदान पहुंची, उसने बच्ची को वहाँ बैठाया और चली गई।

इस बीच, केरल पुलिस ने अपनी जांच के तहत बनाई गई एक पुरुष और एक महिला की तस्वीर जारी की है।

तस्वीर में कुछ समानता दिखने पर एक शख्स कुंडरा थाने पहुंचा। उसने कहा, "मेरे जैसी ही एक तस्वीर देखने के बाद, मैंने इसकी सूचना पुलिस को दी और उन्होंने आगे की जांच के लिए मेरा मोबाइल फोन लेने के बाद मुझे छोड़ दिया। मैंने उनसे कहा कि मेरा उस लड़की या घटना से कोई लेना-देना नहीं है।"

लड़की कोल्लम के एक सरकारी अस्पताल में चिकित्सकीय निगरानी में है क्योंकि डॉक्टर यह पता लगाने के लिए नतीजों का इंतजार कर रहे हैं कि अपहरण के बाद उसे नशीला पदार्थ दिया गया था या नहीं।

उसने पुलिस को बताया कि उसे एक बड़े घर में ले जाया गया और खाना दिया गया और फिर गेम खेलने के लिए एक लैपटॉप दिया गया, जिसके बाद वह सो गई।

हालाँकि पुलिस ने उसे 30 महिलाओं की तस्वीरें दिखाईं, लेकिन वह अभी तक उनमें से किसी की पहचान नहीं कर पाई है।

पुलिस गिरोह का पता लगाने में जुटी हुई है, क्योंकि उनकी प्रतिष्ठा दांव पर है।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button