Select Page

नर्सिंग स्टाफ को वृद्धों के स्वास्थ्य की देखभाल करने का दिया प्रशिक्षण

नर्सिंग स्टाफ को वृद्धों के स्वास्थ्य की देखभाल करने का दिया प्रशिक्षण

जींद/टीम एक्शन इंडिया
जिला प्रशिक्षण केंद्र में सोमवार को जिला में नवनियुक्त सामुदायिक स्वास्थ्य व नर्सिंग अधिकारियों को बुजुर्गों के स्वास्थ्य की विशेष देखभाल करने को लेकर प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। यह कार्यक्रम स्वास्थ्य विभाग की तरफ से नेशनल प्रोग्राम फॉर हेल्थ केयर आफ एल्डरली के तहत हुआ। कार्यक्रम की अध्यक्षता सीएमओ डा. मंजू कादियान ने की। सीएमओ ने बताया कि बुजुर्ग हमारी बहुमूल्य संपत्ति है। हमें उनका मान सम्मान करते हुए उनसे सदैव सद्व्यवहार करना चाहिए। स्वास्थ्य विभाग के अंतर्गत चलाए जा रहे कार्यक्रम में बुजुर्गों की स्वास्थ्य संबंधी पूर्ण रूप से स्क्रीनिंग सुनिश्चित करनी चाहिए।

डिप्टी सीएमओ डा. रमेश पांचल ने सभी उपस्थित सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी व नर्सिंग आफिसर को बुजुर्गों की स्वास्थ्य की विशेष तरह से देखभाल करने को लेकर जरूरी टिप्स दिए। उन्होंने बताया कि डयूटी पर तैनात स्वास्थ्यकर्मी बुजुर्गों का काउंटर पर रजिस्ट्रेशन से लेकर उनकी स्क्रीनिंग जैसे बीपी, शुगर, मुंह, महिलाओं में स्तन व सर्वाइकल कैंसर व फिजियोथैरेपी जैसी सुविधाओं का लाभ बुजुर्गों तक मुहैया करवाने के लिए मदद करना सुनिश्चित करे। उन्होंने सभी सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारियों को कहा गया कि अपने एचडब्लूसी के तहत सभी बुजुर्गों को एनसीडी कार्यक्रम के तहत होने वाली स्क्रीनिंग के बारे में बताना सुनिश्चित करें, ताकि जिला के नागरिकों के स्वास्थ्य को पूर्व अनुमान लगा कर किसी भी गंभीर बीमारी का रूप लेने से पहले ही सामान्य जांच कर समय रहते ठीक कर सकें। एनपीएचसीई कार्यक्रम के तहत 60 वर्ष से अधिक आयु के बुजुर्गों की देखभाल हेतु यह प्रोग्राम सरकार द्वारा चलाया जा रहा है।

उन्होंने मुख्य तौर पर यह भी बताया कि बुजुर्ग आजकल ज्यादातर ग्रामीण आंचल में धूम्रपान का सेवन करते हैं जिनसे उनको मुख की समस्या लगातार आ रही है। जिन की देखभालव जागरूकता के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारियों को उनके द्वारा निर्देश दिए गए हैं। इस अवसर पर जिला कार्यक्रम समन्वयक डा. संजीत ने बताया कि संबंधित कर्मी सभी स्क्रीनिंग का डाटा आनलाइन स्वास्थ्य विभाग के पोर्टल पर दर्ज करना सुनिश्चित कर ताकि सभी मरीजों का रिकॉर्ड पूर्ण रूप से दर्ज हो और उनकी बीमारियों का पता लगाया जा सके। इस अवसर पर डा. गोपाल गोयल, डा. पालेराम, डा. रघुबीर सिंह पूनिया, डा. संजीत सिंह, ट्रेनर दीपक कुमार, रमनदीप कौर रेनू, शीतल फीजियोथैरेपिस्ट, कविता खन्ना, प्रदीप कुमार, सुनीता, पूजा, नसीब, विनोद आदि मौजूद रहे।

Advertisement

Advertisement