Select Page

संसद का बजट सत्र 31 जनवरी से शुरू होकर छह अप्रैल तक

संसद का बजट सत्र 31 जनवरी से शुरू होकर छह अप्रैल तक

नई दिल्ली! टीम एक्शन इंडिया

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज नीति आयोग में अर्थशास्त्रियों के साथ अहम बैठक करेंगे। प्रधानमंत्री आगामी केंद्रीय बजट से पहले उनके सुझाव लेने के साथ-साथ भारतीय अर्थव्यवस्था की स्थिति और इसकी चुनौतियों का आकलन भी करेंगे। संसद का बजट सत्र 31 जनवरी से शुरू होकर छह अप्रैल तक चल सकता है।

सूत्रों ने शुक्रवार को बताया कि प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी आगामी केंद्रीय बजट को लेकर अर्थशास्त्रियों और विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञों के साथ अर्थव्यवस्था की स्थिति और आर्थिक वृद्धि दर को गति देने के उपायों पर चर्चा करेंगे। इस बैठक में कई केंद्रीय मंत्री भी शामिल होंगे।

आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक संसद का बजट सत्र 31 जनवरी से शुरू होकर छह अप्रैल तक चल सकता है। बजट सत्र की शुरुआत लोकसभा और राज्यसभा के संयुक्त सत्र से होगी। इस दौरान राष्ट्रपति द्रौपदी मूर्मू दोनों सदनों को संबोधित करेंगी। यह उनका संसद के दोनों सदनों को पहला संबोधन होगा।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आगामी वित्त वर्ष 2023-24 का केंद्रीय बजट एक फरवरी को पेश करेंगी। वैश्विक मंदी की आशंका और मांग में नरमी से देश की आर्थिक वृद्धि दर वित्त वर्ष 2022-23 में में सालाना आधार पर घटकर 7 सात फीसदी रह सकती है। ऐसा होने पर भारत सबसे तेजी से बढ़ने वाली प्रमुख अर्थव्यवस्था का दर्जा गंवा सकता है।

राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एनएसओ) के आधिकारिक अनुमान के मुताबिक वित्त वर्ष 2022-23 में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) वृद्धि दर सात फीसदी रहेगी, जो पिछले वित्त वर्ष 2021-22 के दौरान 8.7 फीसदी रही थी। हालांकि, यह रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) के 6.8 फीसदी के विकास दर के अनुमान अधिक है।

Advertisement

Advertisement